उत्तराखंड: नैनीताल की श्रेया ने रोशन किया उत्तराखंड का नाम, विश्व के 11 टॉप विश्वविद्यालयों में पाया ये खास मुकाम

खबर शेयर करें

Pahad prabhat News Nainital: उत्तराखंड की बेटियां आज देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में अपना डंका बजा रही है। आज पहाड़ की बेटियां हर क्षेत्र में आगे है। अब नैनीताल की बेटी में उत्तराखंड का नाम पूरे विश्व में रोशन कर दिया है। आल सेंटस कॉलेज नैनीताल की 12वीं कक्षा की छात्रा श्रेया उपाध्याय ने विश्व के 11 शीर्षतम विश्वविद्यालयों में अपना प्रवेश सुनिश्चित कर अपने विद्यालय का नाम रोशन किया है।

श्रेया ने कड़ी मेहनत से अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया संेडिएगो, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया सांता क्रूज, यूनिवर्सिटी ऑफ इलेनॉइस-अरबाना शैम्पेन, यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन मैडिसन तथा यूनाइटेड किंगडम के श्रेष्ठतम विश्वविद्यालयो-यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन, यूनिवर्सिटी ऑफ मेनचेस्टर, किंग्स कॉलेज लंदन, यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्घ तथा सेंट एंड्रयूज यूनिवर्सिटी एवं फ्रांस के इकोल यूनिवर्सिटी में भौतिकी एवं गणित की उच्च शिक्षा के लिए प्रवेश अर्जित किया है। साथ ही उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर में लाखों छात्रों में सर्वोत्तम 17 की सूची में स्थान पाया है तथा उन्हें चांसलर स्कालरशिप भी प्रदान की गयी है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड:(बड़ी खबर)- भाजपा ने इन्हें बनाया अपना नया प्रदेश अध्यक्ष

वहीं यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के सांता क्रूज में उन्हें ऑनर स्कॉलर होने के नाते ‘टॉप स्कॉलर डीन स्कालरशिप’ प्रदान की गयी है। फ्रांस के जिस इकोल विश्वविद्यालय में उनका चयन हुआ है, उसमें पूरे विश्व के मात्र 70 विद्यार्थियों का ही चयन होता है। बता दे कि कोविद-19 की महामारी के चलते इस बार सभी शीर्ष विश्वविद्यालयो में सर्वाधिक प्रवेशार्थी होने के कारण प्रवेश प्रक्रिया में अत्यधिक कठिन प्रतिस्पर्धा थी। श्रेया की भौतिकी में गहन रूचि है। उन्होंने भौतिकी में तीन परिकल्पनाएँ भी दी हैं। पढ़ाई के अलावा श्रेया भारतीय शास्त्रीय संगीत में भी अध्यनरत हैं तथा वायलिन एवं गिटार में उन्हें बहुत रूचि हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: अब तहसीलदार भी जारी कर सकेंगे स्थायी निवास प्रमाणपत्र, पढिय़े पूरी खबर

उनके पिता डॉ. राजीव उपाध्याय कुमाऊं विश्वविद्यालय के भूगर्भ विज्ञान विभाग में प्रोफेसर है जबकि माता डॉ. इरा उपाध्याय वन एवं पर्यावरण विभाग में सहायक प्राध्यापक हैं। अपनी इस उपलब्धि का श्रेय श्रेया ने भगवान को दिया हैं, उन्होंने अपने नाना-नानी, दादा-दादी एवं माता-पिता को अपना प्रेरणास्त्रोत बताया हैं।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *