उत्तराखंड: 18 की उम्र में सेना में भर्ती हो गये थे शहीद बृजेश, जिगर का टुकड़ा खोने पर गश खाकर बेहोश हुई मां

shahid brijesh singh
खबर शेयर करें

Pahad Prabhat News Ranikhet: उत्तराखंड को यूं ही देवभूमि नहीं कहा जाता है। यहां के वीर जवान देश के लिए अपनी जान की बाजी लगाने से कभी पीछे नहीं हटते है। कुमाऊं रेजीमेंट के जाबांजों के किस्सों से हर कोई वाकिफ है। देर रात कुमाऊं रेजीमेंट के जवान बृजेश सिंह रौतेला उम्र 23 के शहीद होने की खबर ने हर किसी को झकझोर दिया। शहीद होने की खबर मिलते ही उसके पैतृक गांव सरना गमगीन हो उठा। बेटे की शहादत के बाबद परिजनों में कोहराम मच गया। बृजेश की मां बेटे को खोने से गश खाकर गिर पड़ी।

Ad

ऐसे नहीं बन जा कोई बृजेेश

बचपन से ही फौजी पिता के जाबांज पुत्र बृजेश सिंह में सैनिक बन देशसेवा करना चाहता था। मात्र 17 वर्ष चार माह की उम्र में वहा रानीखेत के ऐतिहासिक सोमनाथ मैदान में सेना भर्ती रैली शामिल हो गया। देश सेवा के जज्बे ने उसकी दौड़ पूरी कर ली, लेकिन तभी उम्र कम होने पर उसे सेना के अधिकारियों ने उसे अगली बार प्रयास करने का दिलासा देकर वापस भेज दिया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: कोरोना ने मारी छलांग, प्रदेश में बदला स्कूल खुलने का समय…

कमांडो बनाना था सपना

कम उम्र ने बृजेश का तोड़ा तो उसने और ज्यादा तैयारी शुरू कर दी। इसके बाद फिर मैदान मेें उतरने पर उसे मैदान मार लिया। मात्र 18 वर्ष की उम्र बृजेश सिंह भारतीय सेना का अभिन्न अंग बन गया। सेना मेडल प्राप्त पिता दलवीर सिंह ने बताया कि बृजेश को बचपन से ही सेना में कमांडो बनने का शौक था। छोटी सी उम्र में वह देश के लिए शहीद हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: दोस्त ही निकला हत्याकांड का मास्टर माइंड, ऐसे कर दी एक साथ चार लोगों की हत्या…

बेहाश हुई मां

वीर बेटे की शहादत पर मां पुष्पा देवी, बड़े भाई अमित, छोटी बहन कल्पना का रो रो कर बुरा हाल है। आज मौसम खराब होने के कारण विमान उड़ान नहीं भर सका है। ऐसे में पार्थिक शरीर शुक्रवार तक पहुंचने की उम्मीद है। बेटे को खोने से मां रोती बिलखती बेहोश हो गई। होश आता तो जांबाज पुत्र के किस्से याद कर फिर गश खाकर गिर पड़ती।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *