उत्तराखंड: अल्मोड़ा में बरात आंगन में पहुंची तो दुल्हन निकली कोरोना पॉजिटिव, फिर ऐसे लिए पीपीई किट में सात फेरे

marriage ppe kit uttarakhand
खबर शेयर करें

Almora News: कोरोना का असर बरातों पर देखने को मिला है। खासकर उत्तराखंड में पिछले साल की तरह इस साल भी सैकड़़ों बरात लोगों ने रद्द कर दी है जबकि कई लोग परमिशन के बाद शादियां कर रहे है। पहाड़ों में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मामला लमगड़ा ब्लॉक का है जहां शादी से ठीक पहले दुल्हन कोरोना पॉजिटिव निकली। अब शादी को लेकर बड़ी मुसीबत खड़़ी हो गई। तैयारी दोनों ओर से पूरी हो चुकी थी। ऐसे में मामलला एसडीएम सीमा विश्वकर्मा के पास पहुंचा तो उन्होंने मानवता को ध्यान में रखते हुए पीपीई किट पहनकर शादी की अनुमति दे दी। अब बारात आयी तो मंडप सजा। पीपीई किट दूल्हा दुल्हन तक की सीमित नहीं रही बल्कि पंडित जी समेत घराती -बरातियों ने भी किट पहनी। विवाह पूरे विवि-विधान से संपन्न हुआ तो दुल्हन व उसके परिजनों को क्वारंटाइन कर लिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: महिला को सम्मोहित कर उड़ाए कानों के कुंडल और मंगलसूत्र, पल भर में गायब हुआ युवक

गुरुवार को लमगड़़ा तहसील के लाट गांव में घराती अपने गांव में बरात के पहुंचने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। कोरोना काल में लोग बरात देखने के लिए उत्साहित थे इसलिए गाइडलाइन को ध्यान में रखकर लोग घरों की छतों से बारात का इंतजार कर रहेे थे। इस बीच शक होने पर दुल्हन का कोरोना टेस्ट कराया गया। दूल्हा भी बारातियों के साथ पहुंच गया। तभी थोड़ी देर में दुल्हन की कोरोना रिपोर्ट आयी तो सब चौक गये। दुल्हन कोरोना पॉजिटिव निकली। ऐसे में बाराती-घराती परेशान हो गये। परिजनों ने इसकी सूचना प्रशासन को दी। मामला एसडीएम तक जा पहुंचा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: महिला को सम्मोहित कर उड़ाए कानों के कुंडल और मंगलसूत्र, पल भर में गायब हुआ युवक

एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने पूरी गाइडलाइन को ध्यान रखते हुए पीपीई किट में शारीरिक दूरी का पालन करते हुए विवाह की रस्म पूरी करने की अनुमति दे दी। इसके बाद जरूरत के अनुसार किट मंगाए गए। अब शुरू हुई शादी की रस्में। पंडित जी, दूल्हा-दुल्हन व खास स्वजन पीपीई किट में दूर दूर बैठे। विवाह संपन्न होने के बाद दुल्हन व उसके परिजनों को एसडीएम के निर्देश पर क्वारंटाइन कर लिया गया। एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने बताया कि बरात लडक़ी वालों के घर पहुंच चुकी थी ऐसे में विवाह की रस्म को रोका नहीं जा सकता था। मानवता और अन्य पहलुओं को देखते हुए पीपीई किट पहनकर विवाह कराने के निर्देश दिये गये।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *