हल्द्वानीः (देखें वीडियो)- अब सांई हाॅस्पिटल में पेट के कैंसर का उपचार संभव, डाॅ. संजय नेगी ने कही ये बात…

खबर शेयर करें

Haldwani News: अब कैंसर का उपचार हल्द्वानी में भी संभव है। कैंसर के मरीजों को अब दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में भटकने की जरूरत नहीं है। अब आप हल्द्वानी में भी कैंसर का उपचार करा सकते है। मुखानी स्थित सांई हाॅस्पिटल में डाॅ. संजय नेगी ने अपनी सेवाएं देनी शुरू कर दी है। डाॅ. नेगी ने जानकारी देते हुए बताया कि कैंसर अब लाइलाज बीमारी नहीं है। कैंसर का उपचार आज संभव है। डाॅ. नेगी ने बताया कि कई बार कैंसर का पता नहीं चलता है, यानी यह बहुत कम या कभी-कभी कोई संकेत या लक्षण नहीं दिखाता हैै, ऐसे में शुरूआत में इसका पता चलना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। आगे पढ़िये…

ऐसे होता है पेट का कैंसरः डाॅ. संजय नेगी

डाॅ. संजय नेगी का कहना है कि आज पहाड़ों में कैंसर के मरीज लगातार बढ़ रहे है। जिसमें अधिकांश गले और पेट के मरीज रहते है। पेट या गैस्ट्रिक कैंसर, जिसका शुरूआत के चरणों में पता नहीं चल पाता है और बाद में यह एडवांस स्टेज तक पहुंच जाता है। उन्होंने बताया कि पेट हमारी आंतों के बीच में होता है ऐसे में अन्य आस-पास की संरचनाओं और अंगों जैसे लीवर, अग्न्याशय, अन्नप्रणाली और काॅलन से शारीरिक रूप से संबंधित होता है। अधिकांश पेट के कैंसर एडेनोकार्सिनोमा हैं जो पेट की सबसे भीतरी अस्तर की ग्रंथियों की कोशिकाओं में बनते हैं। पेट की संरचनात्मक और कार्यात्मक स्थिति के कारण, पेट के कैंसर के लक्षण की अनदेखी होती है। शुरुआती स्टेज में पेट के कैंसर में लोगों को कोई लक्षण नहीं दिखता है। लेकिन, जैसे-जैसे कैंसर बढ़ने और फैलने लगता है, इसके लक्षणों को महसूस किया जा सकता है आगे पढ़िये…

यह भी पढ़ें 👉  Haldwani: UK04 हेल्पिंग हैंड्स ने चलाया सफाई अभियान, एसडीएम भी हुए शामिल

ये कैंसर के शुरूआती लक्षण

उन्होंने बताया कि अगर नाभि के ऊपर पेट में दर्द, पेट में जलन, भूख न लगाना, मतली और उल्टी तथा तेजी के साथ वजन कम होना कैंसर लक्षण है। ऐसे में आपको सबसे पहले डाॅक्टर से सलाह लेनी चाहिए और अपना चेकअप कराना चाहिए। उनके यहां दूरबीन विधि द्वारा भी उपचार किया जाता है। डाॅ. संजय नेगी ने कहा कि अब पहाड़ के मरीजों को बड़े शहरों में भटकने की जरूरत नहीं है। अब आप सांई हाॅस्टिपटल हल्द्वानी में कैंसर का उपचार करा सकते है।

Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]