उत्तराखंडः जोशीमठ आपदा पर आया लोकगायक प्रकाश काहला का गीत “कैकि लागी नजरा भागी”, सुनकर छलक उठेंगे आंसू…

Ad
खबर शेयर करें

Haldwani Pahad Prabhat: (जीवन राज)- पहाड़ पर जब-जब आपदा की मार पड़ी तो यहां के लोकगायकों ने अपने सुरों में पहाड़ का दुख और दर्द बयां किया। चाहे मालपा हादसे का गीत हो यहां फिर केदारनाथ आपदा का। हमेशा ही उत्तराखंड के लोकगायकों ने पहाड़ की पीड़ा को जन-जन तक पहुंचाने का काम किया। अब उत्तराखंड के जोशीमठ में मकानों में आयी दरारों के बाद वहां के लोग अपने घरों को छोड़ने पर मजबूर है। अपने घरों को छोड़ने का उनका दुख और दर्द लोग खबरों के माध्यम से देख और पढ़ रहे है। लोग अपनी बुजुर्गों की जमीन को छोड़ना नहीं चाहते है। आज हर आंख नम है। पहाड़ का दर्द एक पहाड़ी से भला कौन समझ सकता है। पहाड़ के इसी दुख और दर्द को अपने सुरों मंे बयां कर जन-जन तक पहुंचाने का काम लोकगायक प्रकाश काहला कर रहे है। जोशीमठ आपदा पर उनका गीत जोशीमठ नरसिंह देवा रिलीज हुआ है।

Ad
prakash-kahla-lal-botel-sharaba-song

प्रकाश काहला ने सुरों में बयां की जोशीमठ की पीड़ा

इस मार्मिक गीत को सुन आपके आंखों में आंसू आ जायेंगे। जोशीमठ के लोगों का दर्द इस गीत में बयां कर गायक प्रकाश काहला ने पहाड़ की पीड़ा को लोगों तक पहुंचाया है। जोशीमठ आपदा से जुड़े इस गीत को मनू कुमाऊंनी और लोकगायक प्रकाश काहला ने लिखा है। म्यूजिक मोती शाह ने दिया है। यह गीत नीलम कैसेटस के यू-टयूब चैनल पर रिलीज हुआ है। इस गीत के रिलीज होते ही लोगों ने कई कमेंट शुरू कर दिये। इस गीत में जोशीमठ के नरसिंह देवता से जोशीमठ को बचाने की प्रार्थना की है। कैकि लागी नजरा भागी कैक लागो फिटकारा यानी जोशीमठ को आखिर किसकी नजर लग गई। किसकी बदुआएं लग गई है। आखिर क्यों जोशीमठ में दरारें पड़ गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (बड़ी खबर)-इस विभाग में भर्ती के लिए 228 पद बहाल, जल्द होगी रिक्त पदों पर भर्ती…

लाल बोतल शराबा से कमाया बड़ा नाम

गौरतलब है कि इससे पहले प्रकाश काहला लाल बोतल शराबा तू छै बड़ी खराबा, हिट मेरी लछिमा, मंडुवा रौटा, जय मां दूनागिरी, दिल्ली बै ऐरे छोटी भौजी, त्यर समधी कुबेर समेत कई सुपरहिट गीत गा चुके है। मूलरूप से अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट के ग्राम तल्ली कहाली निवासी प्रकाश काहला बताते है कि वह पिछले 20 सालों से उत्तराखंड की संस्कृति का प्रचार-प्रसार अपने गीतों के माध्यम से कर रहे है। उनके गीतों को लोग उत्तराखंड में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी सुनते है। हंसमुख मिजाज प्रकाश काहला ने हमेशा ही पहाड़ के दर्द को जन-जन तक पहुंचाने का काम किया है। उनके गीत लाल बोतल शराबा को 18 मिलयन से अधिक व्यूज मिले है। अब जोशीमठ आपदा पर उनका गीत नरसिंह देवा रिलीज हुआ है। आप भी ऊपर लिंक पर क्लिक कर पूरा गीत देख सकते है।

Ad
Ad
Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *