उत्तराखंड: बागेश्वर के गौरव ने डर्बी में जीता निकाय चुनाव, गौरवान्वित हुआ उत्तराखंड

Gaurav pandey landon
खबर शेयर करें

Uttarakhand News- हर दिन उत्तराखंड में एक से बढक़र एक प्रतिभाओं का नाम सामने आ रहा है। आज देश के अलग-अलग राज्यों में उत्तराखंंड के लोग निवास कर रहे है। खेल के मैदान सेे बॉलीवुड जगत तक उत्तराखंड के युवाओं ने अपनी प्रतिभा का डंका बजाया है। आज देश में बड़े-बड़े पदों पर उत्तराखंड के लोग बैठे है। अब बागेश्वर जिले के एक युवा नेे लंदन में निकाय चुनाव जीता है। जिसके बाद लंदन से लेकर बागेश्वर तक जश्र का माहौल है।

मूलरूप से उत्तराखंड के बागेश्वर जिले के ग्राम चामी के मूल निवासी गौरव पांडे ने लंदन के डर्बी शहर में रहते है। इस बार डर्बी शहर मेेे निकाय चुनाव में उन्होंने अपनी किस्मत आजमायी तो उन्हें काउंसलर पद पर जीत मिल गई। आश्चर्य की बात यह है कि पिछले पांच बार हारने के बाद छठे प्रयास में जीते गौरव ने अपनी जीत का श्रेय पत्नी गिन्नी सच्चर को दिया है। पहाड़ से बेहद प्यार करने वाले गौरव को उनकी किस्मत लंदन ले गई, जहां उन्होंने इनता नाम कमाया कि आज वह निकाय चुनाव तक जीत गये।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: (गजब)-सुबह दुकान पर काम के लिए रखा, शाम को नकदी लेकर फरार हुआ युवक

गौरव के पिता स्व. हरीश चंद्र पांडेय एमईएस में थे। इसके बाद में उनका परिवार जम्मू जाकर बस गया। वर्ष 2003 में गौरव शेफ के तौर पर लंदन के डार्बी शहर चले गए। आगे काम करते हुए उन्होंने फूड हाइजीन का प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया। इस बीच उनका मन राजनीति की ओर मुड़ा तो उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी ज्वाइंन कर ली। गौरव के परिवार में पत्नी गिन्नी सच्चर और दो बच्चे भी हैं। वह वर्ष 2015 से निकाय चुनाव लड़ रहे हैं लेकिन उन्हें लगातार
हार का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: (गजब)-सुबह दुकान पर काम के लिए रखा, शाम को नकदी लेकर फरार हुआ युवक

वहीं 13 साल से जीत रहे पॉल जेम्स पेग को हराकर इस बार उन्होंने लंदन में उत्तराखंड का डंका बजा दिया। पेग को 1034 जबकि गौरव को 1227 वोट मिले। गौरव ने मैकवर्थ एंड मॉर्ले वार्ड से कंजर्वेटिव पार्टी के प्रत्याशी के रूप में यह चुनाव जीता है। निकाय चुनाव में गौरव समेत चार लोगों ने दावेदारी की थी। गौरव के मामा मुकेश जोशी अल्मोड़ा में हुक्का क्लब के पास रहते हैं। गौरव पहली बार वह वर्ष 1982 में आए थे। फिर 1984 और 1987 में वह एक बार फिर से गांव आए थे। इसके बाद कार्य में व्यस्त होने के चलते वह गांव नहीं आ सकें लेकिन पहाड़ों की याद उन्हें विदेश में भी सताती है। आज उन्होंने साबित कर दिया कि पहाड़ का युवा अपनी धाक कही भी जमा सकता है। उनकी जीत पर उनके परिवार में खुशी का माहौल है।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *