उत्तराखंड: कोरोना ने मारी छलांग, प्रदेश में बदला स्कूल खुलने का समय…

corona uttarakhand
खबर शेयर करें

 DEHRADUN NEWS: उत्तराखंड में कोरोनावायरस कोविड-19 और ओमी क्रोन के बढ़ते मामलों के बाद सरकार जहां एक के बाद एक एतिहाद कदम उठा रही है तो वहीं दूसरी तरफ अब प्राइमरी शिक्षा के समय में भी बदलाव कर दिया गया है अब फिर से कोविड-19 के बढ़ते प्रसार को देखते हुए सरकार ने प्राइमरी स्तर तक 3 घंटे तक पढ़ाई कराने के पूर्व की तरह निर्देश जारी किए हैं शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि कोविड-19 के दृष्टिगत राज्य में संचालित समस्त प्राथमिक स्तर के शिक्षण संस्थानों (शासकीय / अशासकीय सहायता प्राप्त ) / निजी शिक्षण संस्थान) में भौतिक रूप से पठन-पाठन पूर्व निर्धारित समयावधि के अनुसार प्रारम्भ किये जाने के सम्बन्ध में।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (बड़ी खबर)- अब वन दरोगा ऑनलाइन भर्ती परीक्षा में खुलासा, दो नकलमाफिया गिरफ्तार

निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा उत्तराखण्ड देहरादून के पत्रांक अकादमिक (04) / 9312 / विद्यालय संचालन / 2021-22 दिनांक 27 नवम्बर, 2021 का सन्दर्भ ग्रहण करने का कष्ट करें, जिसमें शासनादेश संख्या 625 / XXIV-A-1 / 2021-14/ 2021 दिनांक 18 सितम्बर, 2021 में उल्लिखित प्रस्तर-17 के अनुसार राज्य में संचालित समस्त प्रारम्भिक स्तर के शिक्षण संस्थानों (शासकीय / अशासकीय (सहायता प्राप्त ) / निजी शिक्षण संस्थान) में कक्षा 01 से 05 तक की कक्षाओं को तीन घण्टे के स्थान पर पठन-पाठन / शिक्षण कार्य को पूर्व निर्धारित समयावधि अनुसार संचालित किये जाने का अनुरोध किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  Admission 2023 : नवोदय स्कूलों में एडमिशन शुरु, ऐसे भरे अपने बच्चे का एप्लीकेशन फॉर्म

निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा, उत्तराखण्ड के प्रस्ताव के दृष्टिगत सम्यक् विचारोपरान्त छात्रहित को देखते हुये राज्य में संचालित समस्त प्रारम्भिक स्तर के शिक्षण संस्थानों (शासकीय / अशासकीय (सहायता प्राप्त ) / निजी शिक्षण संस्थान) में कक्षा 01 से 05 तक की कक्षाओं में पठन-पाठन / शिक्षण कार्य को तीन घण्टे के स्थान पर पूर्व की भाँति निर्धारित समयावधि के अनुसार संचालित किया जायेगा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः तीन कैदियों की जेल से भागने की तैयारी, तभी पहुंचा गया सिपाही

शासनादेश संख्या 625 / XXIV – A – 1 / 2021-14 / 2021 दिनांक 18 सितम्बर, 2021 की शेष शर्ते यथावत रहेंगी। उक्त उल्लिखित शासनादेश को इस सीमा तक संशोधित समझा जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *