Success Story: UPSC में पहली बार असफलता के बाद नहीं मानी हार, IAS अनुपमा अंजली से जानें टिप्स

ias preparation tips anjli anupama
खबर शेयर करें

UPSC Success Story: यूपीएससी की परीक्षा पास करने का सपना हर साल लाखों स्टूडेंट्स देखते हैं लेकिन इसमें सफलता कुछ को ही मिल पाती है। इसे सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। जो स्टूडेंट्स मेहनत और लगन के साथ तैयारी करते हैं, वे सफलता जरूर पाते हैं। आईएएस अधिकारी अनुपमा अंजली की कहानी भी कुछ ऐसी ही है।

Ad

उन्होंने UPSC की परीक्षा में 386वीं रैंक हासिल की थी और दूसरे प्रयास में वो सफल हुई थीं। यूपीएससी की परीक्षा देने से पहले उन्होंने बीटेक की पढ़ाई पूरी की थी। अनुपमा मानती हैं कि यूपीएससी की परीक्षा के दौरान कैंडीडेट्स तनाव और डिप्रेशन का सामना करते हैं। ऐसे में मेंटल हेल्थ को सही रखना बहुत जरूरी होता है। वह खुद भी अपनी मेंटल हेल्थ को सही रखने के लिए सही रणनीति बनाकर पढ़ाई करती थीं।

Ad

अनुपमा के घर का माहौल शुरू से ही पढ़ाई वाला रहा। उनके पिता आईपीएस अधिकारी हैं, इस वजह से उन्हें घर से भी पढ़ाई के दौरान काफी सपोर्ट मिला। अनुपमा अंजलि (Anupama Anjali) ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री हासिल की और इसके बाद यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू की, लेकिन पहले प्रयास में उन्हें सफलता नहीं मिली. इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और दूसरी बार एग्जाम देने का फैसला किया। उनका कहना है कि जीवन में आने वाली चुनौतियों को पॉजिटिव विचार रखने से ही सुलझाया जा सकता है। इसके लिए सेल्फ मोटिवेशन भी एक अहम कड़ी है।

अनुपमा अंजली ने बताया कि इस तरह की परीक्षाओं की तैयारी के दौरान उम्मीदवार काफी तनाव में आ जाते हैं । उनकी फैमिली, फ्रेंड्स और कई बार कोचिंग सेंटर में उन्हें बार-बार इस तरह की जानकारियां दी जाती है ताकि उनका तनाव का स्तर लगातार बढ़ता चला जाए । जबकि इस तरह की कठिन परीक्षाओं को पास करने के लिए मेंटल हेल्थ सबसे पहली और जरूरी शर्त होती है ।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *