(वाह बधाई)-उत्तराखंड की पहली लोकगायिका बनी कमला देवी, कोक स्टूडियो भारत सीजन-2 में बिखरेंगी सुरों का जादू…

खबर शेयर करें

Haldwani News: वर्तमान दौर में फूहड़ और डीजे और कानफोडूं गीतों से सोशल मीडिया भरा पड़ा है। इन गीतों का न कोई अर्थ है न इन गीतों में पहाड़ की पीड़ा। बस नाचना है केवल सोशल मीडिया पर रिल्स बनानी है। ऐसे में दौर में आज भी कई लोकगायक ऐसे हैं जो पहाड़ की संस्कृति को जिंदा रखें हुए है। उनके सुरों में पहाड़ की पीड़ा, पलायन और रीति-रिवाजों को लेकर जो पीड़ा और दर्द देखने को मिलता है। वैसा आज के ऑटो टोन गायकों में कहा। जो मिठास कुमाऊंनी संस्कृति को सहेजने का काम कर रही है, अगर उसी आवाज को विश्व पटल पर सम्मान मिल रहा है तो हमें भी एक पहाड़ी और उत्तराखंडी होने पर गर्व होना चाहिए और गरीब तबक से निकली कमला देवी जैसी लोकगायिका को सपोर्ट करते हुए उनका कोक स्टूडियो भारत सीजन-2 चयन होने पर उत्साह बढ़ाना चाहिए। अगला पैरा पढ़े…

उत्तराखंड में कम ही ऐसी लोकगायिका हुई जिन्होंने शुद्ध पहाड़ी गीतों में अपना पूरा जीवन गुजार दिया। लोकगायिका स्व. कबूतरी देवी के बाद लोकगायिका कमला देवी एक बार फिर विश्व पटल पर छाने को तैयार है। जी हां…हम बात कर रहे हैं, मूल रूप से बागेश्वर जिले के गरूड़ तहसील के लखनी गांव निवासी कमला देवी की, जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय फ्रेंचाइजी संगीत स्टूडियो कोक स्टूडियो में अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिला है। इस बात की पुष्टि खुद कोक स्टूडियो ने अपनी सोशल मीडिया अकाउंट में पोस्ट के माध्यम से की है। लोकगायिका कमला की मधुर आवाज़ जल्द ही कोक स्टूडियो सीजन 2 में आपकों सुनने को मिलंेगी।अगला पैरा पढ़े…

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः एपीएस में लगा तीन दिवसीय पुस्तक मेला, बच्चों में किताबों के प्रति दिखी रूचि

उत्तराखंड के लिए यह गौरवपूर्ण पल है क्योंकि कमला देवी उत्तराखंड की पहली लोक गायिका है जिन्हें कोक स्टूडियो में गाने का अवसर मिल रहा है। लोकगायिका कमला केवल कुमाऊंनी संस्कृति से जुड़े हुए गीत ही गाती है। पहाड़ी संगीत के प्रति उनका समपर्ण इसकी बात से लगाया जा सकता है कि मात्र 15 वर्ष की उम्र में उन्होेंने गाना शुरू कर दिया। लोकगायिका कमला की खास बात यह है कि उनकी कुमांउनी लोकसंगीत की सभी विधाओं पर अच्छी पकड़ है। खासतौर पर मालूशाही गायन विधा में उन्हे विशेषज्ञता हासिल है। अगला पैरा पढ़े…

वहीं कोक स्टूडियो विश्वभर में लोक संगीत या स्थानीय गीतों के साथ उनकी मौलिकता से छेड़छाड़ किये बिना उनपर अभिनव प्रयोगों के लिए जाना जाता है। आपको यहां बताते चले कि सबसे पहले कोका-कोला कंपनी के प्रबंधन समिति ने इसे ब्राजील के एक शो में आयोजित किया था। जिसके बाद प्रसिद्ध पाकिस्तानी गायक रोहल हयात ने कोक स्टूडियो के नाम से म्यूजिक स्टूडियो शुरू किया। आज इसकी विभिन्न देशों में शाखाएं खुल चुकी है। भारत में कोक स्टूडियो एमटीवी के नाम से जाना जाता है। पहाड़ प्रभात हमेशा ही पहाड की संस्कृति के लिए लेख लिखते आ रहा है। लोकगायिका कमला देवी को पहाड़ प्रभात की ओर से बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]