उत्तराखंडः जिंदगी की ना टूटे लड़ी, हेलमेट नहीं तो…48 लाख लोगों ने देखी नैनीताल पुलिस की ये पोस्ट…

खबर शेयर करें

Haldwani News: उत्तराखंड पुलिस हमेशा अपने कार्यों को लेकर सुर्खियों में रही है। डिजिटल युग में समय-समय पर लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से जागरूक भी करती आयी है। ऐसे में कई बार लोगों को पोस्ट भा जाती है। खासकर नैनीताल पुलिस की एक पोस्ट इन दिनों चर्चाओं में है। इस पोस्ट की तारीफ पुलिस मुख्यालय ने ही नहीं बल्कि जनता ने भी जमकर किया है। नैनीताल पुलिस के पेज से शेयर हुई इस पोस्ट को उत्तराखंड पुलिस के फेसबुक पेज व अन्य सोशल मीडिया प्लेट फार्म पर भी शेयर किया। आगे पढ़िए…

nainital police post helmet

दरअसल यह पोस्ट हेलमेट की जागरूकता को लेकर बनाया गया है। जिसे 48 लाख लोगों ने देखा है। पहली बार लाखों लोगों द्वारा देखी गई इस पोस्ट से नैनीताल पुलिस भी खुश नजर आयी। वाकई में लोगों को जागरूक करने की उनकी मुहिम रंग ला रही है। अक्सर कुमाऊंनी और हिन्दी भाषा में बने मीम्स, पोस्टर और स्लोगनों को नैनीताल पुलिस जागरूक करने के लिए अपनी फेसबुक पेज पर शेयर करती है। इस पोस्ट को नैनीताल जिले के एसएसपी पंकज भट्ट की सहायक पीआरओ हेमा ऐठानी द्वारा बनाया गया है। जिसके बाद उन्होंने 20 जुलाई को यह पोस्ट नैनीताल पुलिस के पेज पर शेयर की। आगे पढ़िए…

यह भी पढ़ें 👉  Govt Job Alert: CRPF में कई पदों पर नौकरी, डायरेक्ट लिंक पर क्लिक करें अप्लाई

यह में यह पोस्ट यातायात नियमों का पालन करने के उद्देश्य से बनाया गया। जिससे लोग हेलमेट पहने और अपनी जिंदगी बचा सकें। इस पोस्ट में लिखा गया…जिंदगी की ना टूटे लड़ी, हेलमेट नहीं तो गाड़ी कर दो खड़ी। जैसे ही यह पोस्ट नैनीताल पुलिस के फेसबुक पेज पर पोस्ट किया गया। एक के बाद एक कमेंट आने लगे सैकड़ों लोगों ने इस पोस्ट की जमकर तारीफ की। इस पोस्ट की पसंद का अंदाजा इसे देखने वाले 48 लाख लोगों से लगाया जा सकता है। साथ ही 6600 लोगों ने इसे अपने फेसबुक आइडी से शेयर भी कर दिया। यहीं नहीं 28 हजार से ज्यादा लोगों ने इस पोस्ट को लाइक किया है। पहली बार लाखों लोगों को पसंद आने वाली इस पोस्ट से नैनीताल पुलिस का उत्साह बढ़ा है। एसएसपी पंकज भट्ट का कहना है कि हेमा का काम सराहनीय है। लाखों की संख्या में लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में सोशल मीडिया लोगों तक जरूरी संदेश पहुंचाने का एक बेहतर माध्यम है।

Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]