उत्तराखंड: पहाड़ में बेटी की डोली उठने से पहले उठी पिता की अर्थी, कोरोना से शादी के दिन पिता की मौत

shadi m pita ki death
खबर शेयर करें

Pahad Prabhat News Champawat: कोरोना ने कई लोगों की जिंदगी तबाह कर दी। कई घरों के चिराग बुझ गये तो कई खुशहाल घरों में मातम पसर गया। मामला चंपावत का है। जहां एक रिटायर्ड आईटीबीपी के सूबेदार का अपनी दुलारी बेटी को अपने हाथों विदा करने का सपना शादी की ठीक सुबह टूट गया। दुल्हन के कोरोना पॉजिटिव पिता की शादी की सुबह जिला अस्पताल में मौत हो गई। पिता की मौत के बाद परिवार में कोहराम मच गया। पल भर मेंं बेटी की शादी की खुशियां मना रहे परिवार में कोहराम मच गया। बेटी की डोली उठने से पहलेे एक बाप की अर्थी घर से उठ गई। पूरा माहौल गमगीन हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: आलिया भट्ट हुई प्रेग्नेंट तो उत्तराखंड पुलिस ने भी किया गजब का पोस्ट, कमेंट की आ गई बाढ़

जिले के कोलीढेक निवासी छत्तर सिंह की बेटी का 25 मई को विवाह होनी थी। सोमवार को हल्दी रस्म का आयोजन भी हो गया था। मंगलवार को खटीमा से दूल्हे के पक्ष के पांच लोग आने थे। खटीमा से दूल्हे पक्ष के लोग घर से निकलने ही वाले थे, तभी दुल्हन के पिता के मौत हो गई। शादी के कपड़ों में सजी दुल्हन की खुशियां पल भर में बर्बाद हो गई। जिस घर में दूल्हा का इंतजार हो रहा था वहां मातम पसर गया। बेटी की डोली से पहले बाप की अर्थी घर से निकल गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: राज्य में मानसून ने दी दस्तक, इन जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी

दुल्हन केे पिता की मौत के बाद शादी टाल दी गई। खटीमा से आने वाली बरात को भी आनन-ानन रोकना पड़ा। जानकारी देते हुए जिला अस्पताल के पीएमएस डा. आरके जोशी ने बताया कि कोलीढेक निवासी छत्तर सिंह 63 वर्षीय की कोरोना संक्रमण से सोमवार रात मौत हो गई। ऑक्सीजन का स्तर बेहद कम होने गंभीर संक्रमण केे चलते उसकी मौत हो गई। छत्तर सिंह की मौत के बाद पूरे परिवार में कोहराम मच गया। जिस बाप ने अपनी बेटी की विदाई के सपने पाले थे, विदाई से पहले उसी बाप की अर्थी घर से निकल गई। जिसके बाद बरात को टाल दिया गया।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *