उत्तराखंड: 38 साल बाद सियाचिन में मिला कुमाऊं के लाल का पार्थिव शरीर, 15 अगस्त पर तिरंगे में लिपटकर आएगा घर

खबर शेयर करें

Haldwani News: उत्तराखंड में पहाड़ से लेकर मैदान तक तिरंगा यात्रा निकाली जा रही है। ऐसे में 38 साल पहले सियाचीन में ऑपरेशन मेघदूत में शहीद हुए 28 वर्षीय जवान चंद्रशेखर हरबोला 19 कुमाऊँ रेजीमेंट का पार्थिव शरीर स्वतंत्रता दिवस पर उनके घर हल्द्वानी पहुंचेगा।

दुख और गर्व में शहीद चन्‍द्रशेखर हरबोला का पर‍िवार वर्ष 1984 में सियाचिन ग्लेशियर में भारतीय सेना के ‘ऑपरेशन मेघदूत के दौरान लापता हुए शहीद चंद्रशेखर हरबोला बैच संख्या 5164584 का 38 साल बाद पार्थिव शरीर बर्फ के नीचे बरामद हुआ है। इसकी सूचना जैसे ही उनकी पत्नी को मिली, वह फूट फूटकर रो पड़ीं। तमाम स्मृतियां जो धूंधली हो रही थीं फिर से ताजा हो गईं। शहीद का परिवार दुख और गर्व में डूबा हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  मौसम उत्तराखंडः 5 अक्टूबर तक आया मौसम अपडेट, इन क्षेत्रों में येलो अलर्ट

आपरेशन मेघदूत के काफी वर्षों तक उन्हें तलाशने की कोशिश की गई थी। लेकिन जब लंबे समय बाद उनका कोई पता नहीं चला तो उन्हें शहीद घोषित कर दिया गया था। उस समय उनकी पत्नी को 18 हजार रुपये ग्रेज्युटी और 60 हजार रुपये बीमा के रूप में मिले थे। हालांकि परिवार के किसी सदस्य को नौकरी आदि सुविधाएं नहीं मिलीं थीं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः मौसम ने बदली करवट तो हुआ ठंड का अहसास, यहां हुई बर्फबारी...

शहीद चंद्रशेखर हरबोला आज जीवित होते तो 66 वर्ष के होते। उनके परिवार में उनकी 64 वर्षीय पत्नी शांता देवी, दो बेटियां कविता, बबीता और उनके बच्चे यानी नाती-पोते 28 वर्षीय युवा के रूप में अंतिम दर्शन करेंगे। पत्नी शांता देवी उनके शहीद होने से पहले से नौकरी में थी, जबकि उस समय बेटियां काफी छोटी थीं। उम्मीद है कि उनका पार्थिव शरीर 15 अगस्त की शाम तक तिरंगे में लिपटकर नई दिल्ली से होते हुए हल्द्वानी पहुंच जाएगा। बता दे कि । मूल रूप से हाथीखर द्वाराहाट जिला अल्मोड़ा निवासी शहीद का परिवार वर्तमान में सरस्वती विहार, नई आईटीआई रोड, डहरिया में रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *