कुमाऊंनी शायरी: नी कर तू आपणी तुलना मी दगड़ी

RAJENDRA SINGH BHANDARI
खबर शेयर करें

नी कर तू आपणी तुलना मी दगड़ी
छुईमुई जस शहर तू जानदार पहाड़ हय मी

को करूं भरौस शहरों पर आज
कई सालों बटी भगवानों नामक जस कराड़ हय मी

झुर्री मुखड़ में डर कलज में त्यर, आपण और त्यार जास लोगों लिजी आड़ हय मी

पुर चौबीस कैरट सुन में जड़ी जेवर, यस नी सोच कि एक कबाड़ हय मी

तू शहर में पराय आपण घर में, पहाड़ में पुर जिल्ल हमर पुर तहसील हमरी

प्रवेश करनी ठुल घरों में, पुर सुन चांदी जड़ी हुई एक ठोस किवाड़ हय मी

लेखक – राजेंद्र सिंह भण्डारी (बले) सोमेश्वर, अल्मोड़ा

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *