हल्द्वानी: सुशीला तिवारी में देर रात हंगामा, जूनियर डॉक्टरों ने तीमारदारों को जमकर पीटा

STH M HANGAMA
खबर शेयर करें

Pahad Prabhat News Haldwani: शहर का सुशीला तिवारी अस्पताल हमेशा चर्चाओं में रहता है। मोबाइल चोरी सेे लेकर मरीजों और तीमारदारों से अभद्रता की खबरें यहां आम बात है। देर रात फिर वहीं हुआ जो होता आ रहा है। चिकित्सकों और मरीज के तीमारदारों के बीच खूब हंगामा हुआ। तीमारदार का आरोप है किक जूनियर चिकित्सकों और सुरक्षाकर्मियों ने उसे बंधक बनाकर जमकर पीटा है। इसकेे बाद जब हालात बेकाबू हो गये तो एसटीएच प्रशासन ने हंगामे की पुलिस को सूचना दी गई। देरर रात ही भारी पुलिस बल के एसटीएच में पहुंचने के बाद दोनों पक्ष शांत हो सकें।

Ad

बताया जा रहा है कि डहरिया निवासी योगेश मौर्य अपने पिता प्रेमशंकर मौर्य को स्वास्थ खराब होने के चलते सुशीला तिवारी चिकित्सालय ले गए। लेकिन यहां आपातकालीन कक्ष में तैनात जूनियर डाक्टरों ने उनके पिता को नहीं देखा। उन्होंने चिकित्सकों से जब उनके पिता को जल्दी देखने को कहा तो चिकित्सक गाली-गलौच करने लगे। जिसके बाद योगेश ने अपने मोहल्ले में फोन करके पड़ोसी दीवान सिंह बिष्ट और उमेश बुधनी को मदद के लिए बुलाया। इसके तुंरत बाद वह अस्पताल पहुंच गए।

Ad

उन्होंने चिकित्सकों से मरीज को देखने के लिए कहा तो चिकित्सक और भडक़ गए। इसके बाद जूनियर डॉक्टर और सुरक्षाककर्मी तीनों को एक कमरे में ले गए और तीनों की की खूब पिटाई की। उनको गंभीर चोटें आयी हैं। इसके बाद तीनों चिकित्सकों के चंगुल से छूटकर अपने परिजनोंं को पूरी घटना की जानकारी दी तो देर रात एसटीएच में हंगामा हो गया। हालात बेकाबूू हुए तो पुलिस को सूचना दी गई। भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। .

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: रामपुर रोड पर इंटरसिटी बस ने मारी युवक को टक्कर, हालत गंभीर

खबर मिलतेे ही कांग्रेस नेता सुमित हृदयेश भी अपने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ एसटीएच पहुंचे गए। नारेबाजी और शोर-शराबे का दौर शुरू हो गया।पुलिस ने बड़ी मुश्किल से मामला शांत कराया। तीनों घायलों को बेस चिकित्सालय पहुंचाया। एसपी सिटी जगदीश चंद्रा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है और दोषियों के खिलफ कार्रावाई की जाएगी।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *