उत्तराखंड: अजब उत्तराखंड बोर्ड की गजब कहानी, छात्रा को 76 अंक की जगह दिये 28 अंक, ऐसे हुआ खुलासा

ubse.uk.gov.in , UK Board 10th 12th Result 2022

ubse.uk.gov.in , UK Board 10th 12th Result 2022, uttarakhand borad result 2022,

खबर शेयर करें

Uttarakhand Board News:

अभी तक आपने स्कूलों के कई किस्से सुने और पढ़े होंगे। नंबरों को लेकर या मार्कशीट में गड़बड़ी को लेकर उत्तराखंड में कुमाऊं विश्वविद्यालय हमेशा चर्चाओं में रहा है लेकिन इस बार इसका भी रिकार्ड उत्तराखंड बोर्ड ने तब तोड़ दिया, जब एक छात्रा को 76 अंकों की जगह 28 अंक दे दिये गये। मामला यहीं नहीं रूका उससे भी गजब की कॉपी के अंदर उसके अंक आ रहे है उसमें भी बार जोडक़र 76 अंक दिये लेकिन अंतिम मोहर 28 अंकों में लगा दी। उत्तराखंड बोर्ड के इस कारनामे की खूब चर्चा हो रही है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः जापानी बुखार से सुशीला तिवारी अस्पताल में एक की मौत, एक और मरीज है भर्ती

बोर्ड की ओर से 10वीं की छात्रा को विज्ञान में 76 अंक के स्थान पर 28 अंक दे दिए गए हैं। छात्रा की ओर से बोर्ड से उत्तर पुस्तिका मंगाए जाने पर प्रकरण का खुलासा हुआ है। जिससे अन्य छात्र-छात्राओं के अंकों में भी गड़बड़ी की आशंका जताई जा रही है। शिक्षा निदेशक ने कहा है कि प्रकरण की जांच कराई जाएगी।

देहरादून के झबरावाला निवासी नेहा ममगाई राजकीय इंटर कालेज बुल्लावाला में 10वीं की छात्रा रही है। उसे 10वीं की 2022 की बोर्ड परीक्षा में विज्ञान के सैद्धांतिक प्रश्नपत्र में मात्र 28 अंक दिए गए। छात्रा के मुताबिक उसने परीक्षा में सभी प्रश्नों के सही उत्तर लिखे थे, लेकिन बोर्ड की ओर से उसे कम अंक दिए जाने पर उसने परीक्षा परिणाम घोषित होने के 30 दिन के भीतर बोर्ड से मूल्यांकित उत्तर पुस्तिका की छाया प्रति मांगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः मौसम ने बदली करवट तो हुआ ठंड का अहसास, यहां हुई बर्फबारी...

पता चला कि परीक्षक की ओर से उसे 76 नंबर की जगह मात्र 28 अंक दे दिए गए हैं। छात्रों के मुताबिक मूल्यांकन में भी कुछ गलतियां सामने आई हैं। मूल्यांकित उत्तर पुस्तिका के भीरत के पृष्ठों पर दिए गए अंक जोड़ने पर 77 अंक हो रहे हैं। जबकि पहले पेज में योग 76 अंक दर्शाया गया है। नेहा को हाईस्कूल 2022 की परीक्षा में हिंदी में 93, अंग्रेजी में 93, गणित में 92, सामाजिक विज्ञान में 95 और पेंटिंग में 83 अंक मिले हैं। छात्रा के अभिभावकों के मुताबिक यदि बोर्ड की ओर से उनकी बेटी की उत्तर पुस्तिका की सही से जांच कराई जाती तो उनकी बेटी बोर्ड की मेरिट लिस्ट में होती।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा: (बड़ी खबर)-सोमेश्वर में नौ लाख का लीसा पकड़ा, हल्द्वानी बेचने ला रहा था तस्कर

शिक्षा निदेशक आरके कुंवर का कहना हैं कि उत्तराखंड बोर्ड के छात्र-छात्राओं की उत्तर पुस्तिकाओं की विभिन्न स्तर पर जांच होती है, इस प्रकरण की जांच कराई जाएगी। इसके लिए जो कोई भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *