बहारों की रानी हूँ मैं…

DR. SANGYA
खबर शेयर करें

बहारों की रानी हूँ मैं,
सावन की जवानी हूँ मैं।
प्रेम की लिखती कथा,
भादों का पानी हूँ मैं ।
सूरज हैं चाचा मेरे,
किरण उजाली हूँ मैं।
मिटाती घना अन्धेरा,
चन्दा चकोरी हूँ मैं ।
चल रही अनवरत,
नदिया की धारा मैं ।
प्यार ही प्यार हो,
जो कर दूँ इशारा मैं ।
यूँ ही नहीं मैं बहारों की रानी,
यूँ ही नहीं मैं पवन की दीवानी ।
रंग बसंती सदा मुझपे फबता,
धरती की चूनर धानी हूँ मैं ।
आओ पिला दूँ तुम्हें प्रेम प्याला,
षड ऋतुओं की सुन्दर बयानी हूँ मैं ।
डॉ संज्ञा प्रगाथ

Ad
Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: 5 करोड़ के पार पहुंचा थल की बजारा गीत, लोकगायक बीके सामंत का जलवा बरकरार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *