उत्तराखंडः (गजब)- बेटियों को लापता पिता से मिलाने ले गई मां, खुद हुई लापता, पुलिस ने पिता को ढूंढ़ा…

खबर शेयर करें

Roorke News: खबरी रूड़की से है। जहां देहरादून से बेटियों को उनके पिता से मिलवाने के लिए आयी एक महिला खुद लापता हो गई। मां के लापता होने से परेशान बेटियों ने एक मार्मिक पत्र कोतवाली पुलिस को देने के लिए कहा था। जिसे दोनों बेटियों ने पुलिस को दे दिया। पुलिस ने दोनों बहनों को उनके पिता से मिलवा दिया। अब पुलिस मां को तलाश रही है।

जानकारी के अनुसार देहरादून के सुभाषनगर निवासी एक महिला का पति रुड़की में गणेशपुर में प्राइवेट नौकरी करता है। पत्नी से विवाद के चलते उसकी सास भी अपने बेटे के साथ रुड़की रहने के लिए कुछ साल पहले आ गई थी। काफी समय से महिला का पति बच्चों से मिलने देहरादून नहीं आ रहा था। महिला की दो बेटियां है। एक कक्षा सात और दूसरी कक्षा नौ में पढ़ती हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः गुरू द्रोणा पब्लिक स्कूल में मची हरेले पर्व की धूम, बच्चों ने लगाये पौधे

इधर पति के न आने से महिला देहरादून में कमरे का किराया भी नहीं दे पा रही थी। सोमवार को महिला अपनी दोनों बेटियों को लेकर पिता से मिलाने के लिए रुड़की आ गई। महिला को ये पता नहीं था कि उसका पति नौकरी करता है। देहरादून से रूड़की पहुंचने पर महिला ने अपनी दोनों बेटियों को एक पत्र दिया। महिला ने उनसे बोला कि यह पत्र लेकर कोतवाली में पुलिस को देना। वह उनके पिता को लेकर आ रही है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः हितेश पांडे ने लगाया कालाढूंगी में भूमिधरी जमीन कब्जाने का आरोप

इधर दोनों बहने मां के कहे अनुसार रास्ता पूछते-पूछते कोतवाली पहुंच गई। कोतवाली में पुलिस के सामने उन्होंने पत्र पढ़ा तो वह जोर-जोर से रोने लगी। दोनों बहनों ने बताया कि मां ने पुलिस के सामने यह पत्र पढ़ने के लिए कहा था। महिला पुलिस ने यह पत्र पढ़ा तो वह हैरान रह गई। पत्र में लिखा था उसका पति उस पर शक करता है। उनका आए दिन उत्पीड़न करता है। वह देहरादून में कैसे रह रही है इसकी सुध नहीं ले रहा। महिला ने पति की तलाश कर बच्चे उसे सौंपने की मांग की थी। पुलिस ने आनन-फानन में दोनों की तलाश शुरू कर दी। देर शाम पुलिस को पिता का पता लग गया लेकिन मां कही नहीं मिली। जिसके बाद पुलिस ने दोनों बहनों को उनके पिता सौंप दिया। जबकि उनकी मां की तलाश की जा रही है।

Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]