UTTARAKHAND: पहाड़ के प्रदीप के सपनें होंगे साकार, देश की इस प्रतिष्ठित सैन्य अकादमी ने दिया ट्रेनिंग का ऑफर…

PRADEEP MEHRA minerva academy OFFER
खबर शेयर करें

ALMORA NEWS: पहाड़ के प्रदीप मेहरा को भला कौन भूल सकता है। नोयडा की सडक़ों पर रात में 10 किलोमीटर रोज दौडऩे वाला अल्मोड़ा जिले के चौखुटियां निवासी प्रदीप मेहरा के सपने पर जल्द ही पंख लगने वाले है। देशभर में वीडियो वायरल होने के बाद अब प्रदीप मेहरा को पंजाब स्थित प्रतिष्ठित मिनर्वा अकादमी ने तीन साल तक ट्रेनिंग का ऑफर दिया है। जिसके बाद प्रदीप के चेहरे पर मुस्कान लौटी है, जो सपने उसने देखे थे,उनके लिए राह बनती नजर आ रही है। एक बार फिर इसकी जानकारी वरिष्ठ पत्रकार व फिल्मकार विनोद कापड़ी ने अपने ट्वीट पर की। इसके बाद प्रदीप को बधाई देने वाला का तांता लग गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: 1 अक्टूबर से दिल्ली नहीं जा पायेगी उत्तराखंड रोडवेज की 200 बसें, पढ़ लिजिए पूरी खबर

पत्रकार कापड़ी ने निभाई बड़ी भूमिका

बता दें चौखुटिया के ग्राम पंचायत ढनाण निवासी त्रिलोक सिंह मेहरा के बेटे प्रदीप मेहरा का वीडियो तब वायरल हो गया, जब वह अपनी रात की ड्यूटी कर कमरे की ओर दौड़ते हुए जा रहा था। इसमें सबसे बड़ी भूमिका वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी की रही। जिन्होंने अगले दिन इस वीडियो को अपने ट्वीटर पर शेयर कर पूरे देश को प्रदीप मेहरा की देशभक्ति और मेहनत से रूबरू कराया। इसके बाद कई लोगों ने उनकी जमकर तारीफ की। वहीं पूरे देशभर से कई बड़े स्टार खिलाडिय़ों, बालीवुड एक्टर्स, सेना के अफसरों और नेताओं ने उनकी जमकर सराहना की। साथ ही कई लोगों ने प्रदीप की मदद को हाथ भी आगे बढ़ाये।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: पहाड़ी से गिरा पत्थर शीशा तोड़ बस के अंदर घुसा, एक की मौत

मिनर्वा अकादमी ने दिया ऑफर

प्रदीप मेहरा अत्यंत गरीब परिवार से है, पहाड़ में उसके पिता मजदूरी करते है तो दिल्ली में उसकी मां का इलाज चल रहा है। बस वहीं दोनों भाई साथ रहकर एक होटल में काम करते है, उन्हीं पैसों से मां का इलाज करा रहे थे, लेकिन वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी द्वारा बनाई गई वीडियो वायरल होने के बाद प्रदीप के पूरी जिंदगी बदल गई है। अब पंजाब स्थित प्रतिष्ठित मिनर्वा अकादमी ने उसे तीन साल तक ट्रेनिंग देने का प्रस्ताव दिया है। इसकी जानकारी फिल्म निर्माता और लेखक विनोद कापड़ी ने अपने ट्वीटर एकाउंट पर शेयर की है। यह सैन्य एकेडमी पिछले 67 सालों से देश को हजारों सैन्य अफसर दे चुकी है, ऐसे में तीन साल तक के ट्रेनिंग का प्रस्ताव ने प्रदीप के सपने साकार करने का रास्ता खोल दिया है। वही प्रदीप का कहना है कि अगर इस तरह का प्रस्ताव मिला है तो वह अवश्य जाकर ट्रेनिंग लेगा। उसका सपना सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने का है।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *