उत्तराखंड: बोर्ड परीक्षा में छात्रों ने लिखे अजब-गजब उत्तर, कोरोना में पास हुए थे इस बार भी कर देना…

Ad
खबर शेयर करें

Bageshwar News: बोर्ड परीक्षा हमेशा ही चर्चाओं में रहती है। हालांकि उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में ऐसे किस्से सुनने को ज्यादा मिलते है लेकिन इस बार उत्तराखंड के छात्र भी इस राह पर चल पड़े है। इन दिनों उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा मूल्यांकन चल रहा है। ऐसे में बागेश्वर जिले में गजब का मामला सामने आया है। जहां छात्र ने अपनी कापी में उत्तर की जगह लिखा है पिछले साल कोरोना के चलते प्रमोट किया गया था। इसी उम्मीद में इस बार भी पास होने की संभावना थी। पर परीक्षा हो गई, इसलिए साहब पास कर दीजिए।

Ad

जिला मुख्यालय स्थित राइंका पर जनपद के विषय विशेषज्ञ मूल्यांकन कार्य कर रहे हैं। ऐसे में कई मामले सामने आये है। कई छात्रों ने अच्छे अंक देने के लिए अपील की है। किसी ने गरीबी का हवाला तो किसी ने कोरोना काल में लिखने का अभ्यास नहीं होने के कारण लेख पर ध्यान न देने की अपील की है। उत्तर की जगह लिखा है कि कोरोना काल में लिखने की आदत कम हो गई है। उत्तर पुस्तिका की अंतिम लाइन में परीक्षक को लेख पर ध्यान नहीं देने व पूर्ण अंक देने की अपील की हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः शादी का झांसा देकर बनाये संबंध, गर्भवती होने पर कराया गर्भपात...

गजब तो तब हो गया एक ने लिखा वह दिव्यांग है। उसे सरकार ने प्रमाण पत्र दिया है। जिस कारण वह पढ़ाई व लिखने में कमजोर है यदि वह पास नहीं हुआ तो बड़ी मुश्किल पैदा होगी। दूसने ने लिखा है कि पिछले साल परीक्षार्थी कोरोना काल में पास कर दिए गए। इस साल उम्मीद में था कि ऐसा ही होगा। बागेश्वर राइंका के प्रधानाचार्य प्रमोद तिवारी ने बताया कि 15 अप्रैल से मूल्यांकन चल रहा है। सात हजार उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन किया जा रहा है।

Ad
Ad
Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *