उत्तराखंड: घर घर पहुंचे छोटे- छोटे बच्चें, बोले फूलदेई छमा देई, जतुक दिछे उदुक सही…

खबर शेयर करें

Haldwani News:आज उत्तराखंड फुलदेई का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया गया। पहाड़ से लेकर मैदान तक बच्चों ने घर-घर जाकर फुलदई का त्यौहार मनाया। वही शहरों में रहने वाले पहाड़ के लोगों ने भी फुलदेई का त्योहार मनाया। बच्चे सुबह ही घर-घर फूल डालते दिखे। हल्द्वानी, काशीपुर, बाजपुर, कालाढूंगी, लालकुआं समेत कई जगहों पर बच्चों के फुलदेई मनाया।

बता दे कि फूलदेई त्योहार आमतौर पर छोटे बच्चों का पर्व है। पहाड़ पीले फूल से लकदक हो जाते हैं, इस फूल का नाम है। वही जंगलों में बुरांश का फूल भी खिल जाता है दोनों फूलों को मिलाकर बच्चे घर घर जाकर फुलदेई त्यौहार मनाते हैं। “प्योली”….सुख-समृद्धि का प्रतीक फूलदेई त्योहार उत्तराखंड की संस्कृति की पहचान है। बसंत का मौसम आते ही सभी को इस त्योहार का इंतजार रहता है। विशेषकर छोटे बच्चों में इस त्योहार के प्रति उत्सुकता बढ़ती जाती है। घर-घर में फूलों की बारिश होती रहे ..हर घर सुख-समृद्धि से भरपूर हो.. इसी भावना के साथ बच्चे अपने गांवों के साथ-साथ आस-पास के गांव में जाकर घरों की दहजीज पर फूल गिराते हैं और उस घर के लिए मंगलमय कामना करते हैं, जहां घर की मालकिन बच्चों को फूल वर्षा के बदले चावल, गुड़ के साथ दक्षिणा के रूप में रुपए भी देती है। प्योली का फूल इस समय अपने पूरे शबाब पर है, आज उत्तराखंड में फूलदेई का त्यौहार मनाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: अनुराग अकादमी ने मनाया हरेला उत्सव

उत्तराखंड का लोकप्रिय और स्थानीय त्योहार है फूलदेई, साथ ही बसंत ऋतु के आगमन का और नए फूल खिलने का संदेश भी फूलदेई देती है…. और माना यह जाता है की फूलदेई का त्यौहार बिना प्योलीं के फूल के अधूरा ही रह जाता है, प्योली पीले रंग का फूल है जो बसंत ऋतु के आगमन का प्रतीक है, जो आजकल पहाड़ों में अपनी छटा बिखेर रहा है।

Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]