उत्तराखंड: देवभूमि के लिए गौरव का पल, शहीद दीपक नैनवाल की पत्नी ज्योति आज बनेगी सैन्य अफसर…

DEEPAK NAINWAL AND JYOTI NAINWAL ARMY
खबर शेयर करें

DEHRADUN NEWS: देवभूमि उत्तराखंड को यूं ही वीरों की भूमि नहीं कहा जाता है। यहां हर घर से एक फौजी निकलता है। देशभक्ति के भावना उत्तराखंड के लोगों में कूट-कूट कर भरी है। देवभूमि के कई वीरों ने भारत मां की रक्षा के लिए अपना बलिदान दे दिया। यहां के युवाओं की पहली चाहत सेना में भर्ती होना रहता है। कई शहीदों ने अपनी वीरगाथा से देवभूमि का नाम रोशन किया है। इन्हीं में से एक शहीद का नाम है दीपक नैनवाल।

Ad

इतिहास के पन्नों में दर्ज होगा नाम

जिनकी शहादत को देश नहीं भूल सकता है। अब भारतीय सेना का हिस्सा देवभूमि की बेटियां भी बन रही है। इससे पहले कई बेटियां आर्मी में भर्ती हो चुकी है। लेकिन इन्हीं में से कुछ वीरांगनाओं ने अपने पति के शहीद होने के बाद सैन्य वर्दी पहनी है। इससे पहले आपने शहीद मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल की पत्नी निकिता, शहीद शिशिर मल्ल की पत्नी संगीता और शहीद अमित शर्मा की पत्नी प्रिया सेमवाल भी सैन्य वर्दी में देखा होगा। इसी क्रम में एक और नाम जुड़ चुका है। अब शहीद दीपक नैनवाल की पत्नी ज्योति सैन्य वर्दी धारण करेगी।

यह भी पढ़ें 👉  UTTARAKHAND GOVT JOB: UKSSSC ने जारी किया नोटिफिकेशन, इस विभाग में 493 पदों निकली भर्ती…

आज पासआउट होगी ज्योति

पति की शहादत के बाद अपने दर्द को पीछे छोडक़र साहस की नई इबारत लिखने के लिए ज्योति अब पूरी तरह से तैयार हैं। अब वह देश की सेवा के लिए उनकी ही राह पर चल पड़ी हैं। ज्योति सेना में अफसर बनने जा रही हैं। ज्योति आज चेन्नई स्थित आफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी से पास आउट होंगी। देहरादून जिले के हर्रावाला निवासी नायक दीपक नैनवाल दस अप्रैल 2018 को जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकी मुठभेड़ में तीन गोलियां लगने के बाद घायल हुए थे। उपचार के दौरान वह शहीद हो गये। पति की शहादत के बाद पत्नी ज्योति ने देशसेवा की राह चुनी। शहीद दीपक नैनवाल का बेटा रेयांश भी आगे चलकर फौजी ही बनना चाहता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: राज्य कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक आज, इन मुद्दों पर हो सकता है फैसला...

तीन पढिय़ों से कर रहे है देशसेवा

बता दें कि शहीद दीपक नैनवाल के परिवार की तीन पीढिय़ा देश सेवा से जुड़ी रही हैं। दीपक के पिता चक्रधर नैनवाल भी सेना से रिटायर्ड हैं। उन्होंने 1971 के भारत-पाक युद्ध, कारगिल युद्ध व कई अन्य आपरेशन में हिस्सा लिया। दीपक के दादा सुरेशानंद नैनवाल स्वतंत्रता सेनानी थे।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *