नैनीताल:(बड़ी खबर)-मार्क जुकरबर्ग और स्टीव जॉब्स के बाद विराट कोहली पहुंचे कैंची धाम, चमत्कारों से भरा हैं बाबा का धाम…

खबर शेयर करें

Nainital News: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और टी-20 वर्ल्ड कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले विराट कोहली अपनी पत्नी फिल्म स्टार अनुष्का शर्मा और बेटी के साथ इन दिनों कुमाऊं की हसीन वादियों में पहुंचे हैं आज विराट कोहली ने भवाली स्थित नीम करोली बाबा महाराज के आश्रम में पहुंचकर दर्शन किए। इस दौरान स्थानीय लोगों व मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने विराट कोहली संग फोटो भी खिंचवाई।इसमें कोई दोराय नहीं कि कैंची धाम में विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की गहरी आस्था है। अनुष्का ने हाल ही में बाबा की फोटो भी सोशल मीडिया पर अपलोड की थी।

बता दें कि देहरादून में विराट कोहली की ससुराल है। अनुष्का शर्मा देहरादून के नेशविला रोड में अपना बचपन बिता चुकी हैं। उनका पुश्तैनी ससुराल दून के पाश इलाके नेशविला रोड पर शीला भवन नाम से है। अनुष्का के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल अजय कुमार शर्मा 16 गढ़वाल राइफल्स में तैनात थे। यहीं से उन्होंने बीआरएस लिया था। हाल में विराट ने वर्ल्ड कप 2022 में सबसे ज्यादा 296 रन बनाए थे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:(बड़ी ख़बर)- अब श्री कैंचीधाम के नाम से जाना जाएगा तहसील कोश्या कुटोली, मिली मंजूरी
BABA NEEM KAROLI KAICHI DHAM

15 जून को लगेगा कैंची मेला

“कैंची धाम” के नीब करौरी बाबा (नीम करौली) की ख्याति विश्वभर में है। बाबा के भक्तों का मानना है कि बाबा हनुमान जी के अवतार थे। नैनीताल से लगभग 65 किलोमीटर दूर कैंची धाम को लेकर मान्यता है कि यहां आने वाला व्यक्ति कभी भी खाली हाथ वापस नहीं लौटता। यहां पर मांगी गयी मनौती पूर्णतया फलदायी होती है। यही कारण है कि देश-विदेश से हज़ारों लोग यहां हनुमान जी का आशीर्वाद लेने आते हैं।श्री हनुमान जी के अवतार माने जाने वाले बाबा के इस पावन धाम पर पूरे साल श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है, लेकिन हर साल 15 जून को यहां पर एक विशाल मेले व भंडारे का आयोजन होता है। यहां इस दिन इस पावन धाम में स्थापना दिवस मनाया जाता है। बाबा नीब करौरी ने इस आश्रम की स्थापना 1964 में की थी। बाबा 1961 में पहली बार यहां आए और उन्होंने अपने पुराने मित्र पूर्णानंद जी के साथ मिल कर यहां आश्रम बनाने का विचार किया था।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:(बड़ी खबर)- कैंचीधाम में मेला कल, इन जगहों पर स्कूलों में छुट्टी घोषित

हनुमान जी अवतार माने जाते है बाबा

मान्यता है कि बाबा नीब करौरी को हनुमान जी की उपासना से अनेक चामत्कारिक सिद्धियां प्राप्त थीं। लोग उन्हें हनुमान जी का अवतार भी मानते हैं। हालांकि वह आडंबरों से दूर रहते थे। न तो उनके माथे पर तिलक होता था और न ही गले में कंठी माला। एक आम आदमी की तरह जीवन जीने वाले बाबा अपना पैर किसी को नहीं छूने देते थे। यदि कोई छूने की कोशिश करता तो वह उसे श्री हनुमान जी के पैर छूने को कहते थे। बाबा नीम करौली को भगवान हनुमान का अवतार माना जाता है. कहते हैं कि यहां कोई भी व्‍यक्ति मुराद लेकर जाए तो वह खाली हाथ नहीं लौटता. यहां बाबा का समाधि स्थल भी है. विदेशी भक्‍तों की बात करें तो यहां अमेरिकी लोग सबसे ज्‍यादा आते हैं

ये विदेशी है बाबा के भक्त

बाबा के भक्तों में एक आम आदमी से लेकर अरबपति-खरबपति तक शामिल हैं। बाबा के इस पावन धाम में होने वाले नित-नये चमत्कारों को सुनकर दुनिया के कोने-कोने से लोग यहां पर खिंचे चले आते हैं। बाबा के भक्त और जाने-माने लेखक रिचर्ड अल्बर्ट ने मिरेकल आफ लव नाम से बाबा पर पुस्तक लिखी है। इस पुस्तक में बाबा नीब करौरी के चमत्कारों का विस्तार से वर्णन है। इनके अलावा एप्‍पल के संस्‍थापक स्‍टीव जॉब्‍स, फेसबुक के संस्‍थापक मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) और हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स जिस भारतीय बाबा के भक्‍त रहे हैं, 15 जून का स्‍थापना दिवस है ।  नीम करौली बाबा (Neem Karoli Baba) के पास देश ही नहीं दुनिया भर से भक्‍त आते थे और प्रेरणा पाते थे ।  उन्‍होंने 1964 में नैनीताल के पास पंतनगर में यह धाम/आश्रम बनाया था, जिसमें स्‍टीव जॉब्‍स (Steve Jobs) कई दिनों तक रहे ।  15 जून को इस धाम की स्‍थापना दिवस के मौके पर देवभूमि कैंची धाम (Kainchi Dham) में मेला लगता है । 

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]