हल्द्वानी: कालाढूंगी सीट पर कांग्रेस के महेश शर्मा ने ठोकी ताल, बोल झूठी सरकार को सबक सिखायेगी जनता…

MAHESH SHARMA COGRES
खबर शेयर करें

KALADHUNGI NEWS: विधानसभा चुनाव 2022 के लिए राजनीतिक दल सक्रिय हो गये है। ऐसे में कार्यकर्ता अब विधायकी के लिए दावेदारी करने लगे है। इस बार उत्तराखंड के सभी सीटों पर दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है। लेकिन इन सबके के बीच हल्द्वानी और कालाढूंगी विधानसभा में कांटे के मुकाबले की उम्मीद जताई जा रही है। कालाढूंगी सीट से कांग्रेस के महेश शर्मा ने दावेदारी की है। वर्तमान में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव और पूर्व में दर्जा मंत्री रह चुके महेश शर्मा ने कहा कि अगर पार्टी उन्हें टिकट देती है तो वह उस बार कालाढूंगी सीट को कांग्रेस की झोली में डालेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: UKSSSC पेपर लीक में 33वा विकेट गिरा, पत्नी का चयन कराया और पेपर लीक भी कराया

महेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश से लेकर विधानसभा तक विकास कार्य पूरी तरह से ठप्प है। कालाढूंगी की जनता इस बार भाजपा को सबक सिखायेंगी। उन्होंने कहा कि बीते दिनों एक चैनल के लाइव डिबेट शो में कालाढूंगी विधायक और मंत्री बंशीधर भगत ने कहा था कि धामी सरकार आने के बाद 24 हजार युवाओं को रोजगार मिला है जब मैंने इस सवाल का जवाब मांगा तो भाजपा के जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट ने कहा कि भाजपा ने पिछले पांच सालों में 15 हजार युवाओं को रोजगार दिया है। अब इस कौन सच्चा है कौन झूठा यह जनता तय करेगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (बड़ी खबर)- प्रेम विवाह से नाराज ससुरालियों ने की दलित नेता की हत्या, 2022 में लड़ा था विधानसभा चुनाव

उन्होंने कहा कि भाजपा वाले एक तो तीन-तीन मुख्यमंत्री बदलने के बाद झूठ बोलते है और झूठ बोलने पर आंकड़े भी अलग-अगल लाते है। अगर झूठ ही बोलना है तो कम से कम दोनों आपस में पहले बात कर ले फिर झूठ बोले। आज आम जनता महंगाई से त्रस्त है। कोरोना काल में कई लोगों को रोजगार छिन गया लेकिन राज्य सरकार ने उन्हेंकेवल आश्वासन का झुनझुना थमाया है। अब जनता के हाथ मौका है कि वह विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा को झुनझुना थमायेगी।

बता दें कि महेश शर्मा ने कालाढूंगी क्षेत्र की समस्याओं को शासन-प्रशासन तक पहुंचाने के लिए कालाढूंगी विकास मंच बनाया था। लेकिन विधानसभा चुनाव 2012 मेंउन्होंने कांग्रेस से बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ा, मगर जीत नहीं मिली। इसके बाद वह वर्ष 2017 का विधान सभा चुनाव भी हार गए थे। लेकिन एक बार फिर कांग्रेस में उनकी वापसी हुई। वर्तमान में वह कांग्रेस के प्रदेश महासचिव के पद पर है। उनके आने के बाद कालाढूंगी में कांग्रेस और मजबूत हुई है। ऐसे में आगामी विधानसभा चुनाव में कालाढूंगी सीट पर कांटे का मुकाबला होने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *