हल्द्वानीः पढ़िए कारोबारी अंकित चौहान के हत्याकांड की पूरी कहानी, दो प्रेमी, एक प्रेमिका, धन-दौलत और नाग का जाल…

खबर शेयर करें

Haldwan Ankit Murder Case: हल्द्वानी में हुए कारोबारी अंकित चौहान  हत्याकांड का पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया तो सब हैरान रह गये। हत्याकांड में पांच लोग शामिल थे। जिसमें से एक को ’गिरफ्तार किया गया है जबकि उसकी प्रेमिका सहित चार लोग फरार चले रहे है। आज एसएसपी पंकज भट्ट ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि विगत 15 जुलाई को तीनपानी गौलापास रोड़ पर एक कार संख्या यूके 04 क्यू-1574’ के अंदर अंकित चैहान पुत्र धर्मपाल चैहान निवासी रामबाग कालोनी रामपुर रोड़ हल्द्वानी की लाश मिली। जिसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिजनों को अंकित की हत्या होने का शक था। तो पोस्टमार्टम के दौरान अंकित के दोनों पैरों के पिछले हिस्से में दो बार सांप के काटने के निशान थे। पोस्टमार्टम में डॉक्टर द्वारा भी सांप के काटने की पुष्टि की गयी। जिस पर पुलिस को शक हुआ। इधर ईशा चैहान ने तहरीर हल्द्वानी कोतवाली में तहरीर दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की तो परतें खुलती गई। मृतक अंकित का मोबाइल सर्विलांस में कई खुलासे हुए। जिसके बाद पुलिस का शक भी यकीन में बदल गया कि अंकित की हत्या की गई है। आगे पढ़िए…

सपेरे ने खोला हत्याकांड का सच

एक टीम ने घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरांे की गहनता से जांच की। मोबाइल सर्विलांस टीम द्वारा मृतक के कॉल डिटेल की पूरी जानकारी जुटाई। मौत से पहले अंकित किन लोगों के संपर्क में था उनकी लिस्ट तैयार की। इसके अलावा मृतक के दोस्तों रिश्तेदारों व आस पड़ोस में पूछताछ की गयी। इस दौरान जांच में सामने आया कि अंकित कर किसी महिला के साथ सम्बन्ध था एवं महिला एंव उसके साथी अंकित को काफी समय से ब्लैकमेल कर रहे थे। अंकित का माही उर्फ डौली नाम कि एक महिला के साथ मित्रता थी। घटना के दिन अंतिम समय वह माही के घर के लिए निकला था। अगले दिन उसका शव कार से बरामद हुआ। पुलिस जांच में अंकित और माही तथा अन्य संदिग्धों की कॉल डिटेल निकालकर नम्बरों की तलाश जारी रखी गयी। इस दौरान पता लगा कि हत्याकांड के दिन लगातार माही के सम्पर्क में रहे एक संदिग्ध नम्बर जो कि रमेश नाथ के नाम का था। जिसके बाद पुलिस ने जानकारी जुटाई तो पता चला कि वह हल्द्वानी में किराये पर रहता था जो कि एक सपेरा है और सांप पकड़ने का कार्य करता है। जिसके बाद पुलिस ने उसे पकड़ा। जब उससे सख्ती से पूछताछ की तो उसने हत्याकांड का खुलासा कर दिया। आगे पढ़िए…

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: प्रदेश कांग्रेस कमेटी में प्रदेश उपाध्यक्ष सहित कई ने थामा भाजपा का दामन

नाग से डसने के लिए 10 हजार

आरोपी रमेश नाथ ने बताया कि वह हल्द्वानी में मानपुर पश्चिम में रहता है। घर-घर जाकर मांगने खाने एंव साँप पकड़ने का काम करता है। करीब 7-8 महीने पहले हल्द्वानी के एक युवक ने उसे माही उर्फ डौली पुत्री इन्द्रलाल निवासी शान्तिविहार कालौनी गौरापड़ाव से मिलवाया। उससे कहा गया कि इस पर कालसर्प योग है, तो पूजा के लिए एक नाग पकड़कर लाना है। इसके कुछ समय बाद मेरा माही के घर आना-जाना हो गया था। माही के घर पर ही अक्सर अंकित चौहान, दीप काण्डपाल एवं उसकी नौकरानी तथा नौकरानी का पति रामऔतार आते रहते थे। करीब 20-25 दिन पहले हम सभी लोग माही के घर में थे तो माही एवं दीप काण्डपाल ने मुझसे कहा कि अंकित चैहान ने माही का जीना हराम कर दिया है। वह कभी भी माही के घर पर आ जाता है और शराब पीकर इसके साथ काफी मारपीट करता है। दीप ने कहा कि माही अब मुझसे प्यार करती है लेकिन यह अंकित चैहान पीछा नही छोड़ रहा है, अब इसको निपटाना ही पड़ेगा, फिर इन्होनें मुझसे कहा कि अगर हम इसे ऐसे मारते हैं तो पुलिस हम पर शक करेगी। इसलिए तुम एक जहरीला साँप पकड़कर ले आना। हम अंकित चैहान को किसी बहाने से माही के घर बुलाकर उसे नींद की गोलियां देकर बेहोश कर देंगे और तुम साँप से उसे कटवा देना। जिससे उसकी मौत हो जाय। लोगों को लगे की सांप के काटने से उसकी मौत हुई है। इसके लिए तुम्हें 10 हजार रूपये दिये जायेंगे। साथ ही माही तथा दीप कांडपाल ने माही की नौकरानी तथा उसके पति रामऔतार को भी 10-10 हजार रूपये देने की बात कही थी। आगे पढ़िए…

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand: (शाबास)- घर भी संभाला और पास कर ली UKPSC की परीक्षा, पहाड़ की बेटी को दीजिए बधाई...

जन्मदिन पर हत्या का प्लान हुआ फेल

ऐसे में पूरा प्लान सुनकर में भी हत्या में साजिश में शामिल हो गया। रमेश नाथ ने बताया कि उसने 15-20 दिन पहले जंगल से एक जहरीला नाग पकड़ा। इसके जानकारी उसने माही और उसके साथियों को बता दी। उन्होंने कहा कि तुम साँप अपने पास रखे रहो जैसे ही हमें मौका मिलेगा हम अंकित को घर बुला लेंगे। आरोपी ने बताया कि इसके बाद 8 जुलाई माही ने मुझे अपने घर पर साँप लेकर बुलाया। कहा कि आज अंकित का जन्मदिन है वह यहाँ आयेगा, तुम घर में ही छुप जाओ मौका देखकर मैं तुम्हें बुला लूँगी। उस दिन अंकित चैहान घर पर आया और रामऔतार तथा उसकी बीवी भी माही के घर पर आ गये, फिर ये सब लोग खाना-पीना खाकर शराब पीकर रात भर नाचते रहे जब काफी देर तक अंकित चैहान सोया नहीं तो माही ने मुझसे कहा कि आज मौका नहीं है। किसी और दिन देखते है। इसके बाद 14 जुलाई को दिन में माही ने मुझे फिर से साँप लेकर अपने घर पर बुला लिया। इस दौरान माही के घर पर माही के साथ दीप काण्डपाल, रामऔतार एंव उसकी पत्नी भी मौजूद थी। माही सभी से कहा कि तुम सब लोग अन्दर मन्दिर वाले कमरे में छुप जाओ जब अंकित चौहान घर पर आयेगा तो उसे आज नींद की गोलियाँ खिला दूँगी। जब तुम्हें बुलाउ तो आज जाना। रात करीब 8 बजे माही ने दीप कांडपाल, रामऔतार और उसकी बीवी को बुला और फिर कुछ देर बाद मुझे भी आवाज देकर बुलाया। तभी मैं अपने साथ एक टोकरी में नाग लेकर जब माही के कमरे में पहुँचा तो मैंने देखा कि इन चारों ने कम्बल डालकर अंकित को बेड पर पेट के बल लिटा रखा था और सब लोग अंकित को दबाये हुए थे फिर इन्होंने मुझसे कहा कि इसके पैरों में साँप से डसवा दो फिर इनके कहने पर मैंने अंकित के पैर पर साँप से डसवाया। पहले पैर में डसने के बाद अंकित के शरीर में हरकत होती रही तो इन्होंने कहा कि शायद जहर का असर नहीं हुआ है। फिर दोबारा अंकित के पैर में साँप से डसवाया और ये लोग अंकित के मरने तक उसको दबाये रहे। कुछ देर बाद अंकित की मौत हो गई। आगे पढ़िए…

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand: 13 को उत्तराखंड आयेंगी प्रियंका, इन दो सीटों पर करेंगी रैली…

नये प्रेमी संग मिलकर ठिकाने लगा पुराना प्रेमी

आरोपी रमेश नाथ ने बताया कि शव को ठिकाने लगाने के लिए उसकी कार में रखकर पहले उसे भुजियाघाट से नीचे खाई में फैंकने के लिए लेकर गये थे, लेकिन वहां कुछ लोग मौजूद थे तो वह ऐसा नहीं कर पाये। इसके शव को उसकी कार में ही गौला बाईपास रोड पर तीनपानी के पास छोड़कर फरार हो गयेे। योजना के अनुसार माही ने पहले से ही दिल्ली से टैक्सी कार मंगाई थी जिससे सभी लोग हल्द्वानी से भाग गये। भागते समय रास्ते में जंगल में मेरे द्वारा साँप को छोड़ दिया गया था। रास्ते में माही ने उसे हत्या में सहयोग करने के लिए 10 हजार रूपये दिये थे। रूपये लेकर में अपने गांव ग्राम अदकटा थाना भोजीपुरा बरेली यूपी चला गया। जब वहां से लौटा ने पुलिस के हाथ लग गया। फिलहाल पुलिस अंकित हत्याकांड की मास्टरमांइड माही उर्फ डौली पुत्री इन्द्रलाल निवासी शान्तिविहार कालौनी गौरापड़ाव हल्द्वानी, दीप कांडपाल निवासी हल्दूचैड़ थाना लालकुँआ, रामऔतार पुत्र लालाराम निवासी गाँव हैदरगंज पीलीभीत यूपी और ऊषा देवी पत्नी रामऔतार की तलाश में जुटी है। एसएसपी पंकज भट्ट ने खुलासा करने वाली टीम 5000 रूपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]

You cannot copy content of this page