उत्तराखंड: चमत्कार और रहस्यों से भरा हैं बाबा का धाम, ऐसे बदली मार्क जुकरबर्ग और स्टीव जॉब्स की जिंदगी

BABA NEEM KAROLI KAICHI DHAM
खबर शेयर करें

Nainital News: आगामी 15 जून को भवाली स्थित विश्व प्रसिद्ध बाबा नीम करौली महाराज के धाम में होने वाले कैंची धाम मेले की तैयारियों में प्रशासन जुट गया है। शनिवार को मंदिर परिसर में एसडीएम कुश्याकटौली ने मंदिर प्रबंधन के साथ बैठक की। जिसमें 15 जून को पार्किंग, यातायात, सुरक्षा व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की गई। बता देें कि इससे पहले दो वर्ष कोरोना के चलते कैंची धाम में मेले का आयोजन नहीं किया गया। लेकिन इस वर्ष मेले का आयोजन भव्य स्तर पर किया जा रहा है। प्रशासन इसकी तैयारी में जुट गया है।

15 जून को लगेगा कैंची मेला

“कैंची धाम” के नीब करौरी बाबा (नीम करौली) की ख्याति विश्वभर में है। बाबा के भक्तों का मानना है कि बाबा हनुमान जी के अवतार थे। नैनीताल से लगभग 65 किलोमीटर दूर कैंची धाम को लेकर मान्यता है कि यहां आने वाला व्यक्ति कभी भी खाली हाथ वापस नहीं लौटता। यहां पर मांगी गयी मनौती पूर्णतया फलदायी होती है। यही कारण है कि देश-विदेश से हज़ारों लोग यहां हनुमान जी का आशीर्वाद लेने आते हैं।श्री हनुमान जी के अवतार माने जाने वाले बाबा के इस पावन धाम पर पूरे साल श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है, लेकिन हर साल 15 जून को यहां पर एक विशाल मेले व भंडारे का आयोजन होता है। यहां इस दिन इस पावन धाम में स्थापना दिवस मनाया जाता है। बाबा नीब करौरी ने इस आश्रम की स्थापना 1964 में की थी। बाबा 1961 में पहली बार यहां आए और उन्होंने अपने पुराने मित्र पूर्णानंद जी के साथ मिल कर यहां आश्रम बनाने का विचार किया था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: बारात में न ले जाने पर दोस्त ने दूल्हे को भेजा 50 लाख का नोटिस, बोला दिल में चुभ गई बात…

हनुमान जी अवतार माने जाते है बाबा

मान्यता है कि बाबा नीब करौरी को हनुमान जी की उपासना से अनेक चामत्कारिक सिद्धियां प्राप्त थीं। लोग उन्हें हनुमान जी का अवतार भी मानते हैं। हालांकि वह आडंबरों से दूर रहते थे। न तो उनके माथे पर तिलक होता था और न ही गले में कंठी माला। एक आम आदमी की तरह जीवन जीने वाले बाबा अपना पैर किसी को नहीं छूने देते थे। यदि कोई छूने की कोशिश करता तो वह उसे श्री हनुमान जी के पैर छूने को कहते थे। बाबा नीम करौली को भगवान हनुमान का अवतार माना जाता है. कहते हैं कि यहां कोई भी व्‍यक्ति मुराद लेकर जाए तो वह खाली हाथ नहीं लौटता. यहां बाबा का समाधि स्थल भी है. विदेशी भक्‍तों की बात करें तो यहां अमेरिकी लोग सबसे ज्‍यादा आते हैं

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: खाने में नॉनवेज के बजाय बीबी ने बनाई दाल तो जमकर की धुनाई, फिर ऐसे किया हाई वोल्टेज ड्रामा

ये विदेशी है बाबा के भक्त

बाबा के भक्तों में एक आम आदमी से लेकर अरबपति-खरबपति तक शामिल हैं। बाबा के इस पावन धाम में होने वाले नित-नये चमत्कारों को सुनकर दुनिया के कोने-कोने से लोग यहां पर खिंचे चले आते हैं। बाबा के भक्त और जाने-माने लेखक रिचर्ड अल्बर्ट ने मिरेकल आफ लव नाम से बाबा पर पुस्तक लिखी है। इस पुस्तक में बाबा नीब करौरी के चमत्कारों का विस्तार से वर्णन है। इनके अलावा एप्‍पल के संस्‍थापक स्‍टीव जॉब्‍स, फेसबुक के संस्‍थापक मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) और हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स जिस भारतीय बाबा के भक्‍त रहे हैं, 15 जून का स्‍थापना दिवस है ।  नीम करौली बाबा (Neem Karoli Baba) के पास देश ही नहीं दुनिया भर से भक्‍त आते थे और प्रेरणा पाते थे ।  उन्‍होंने 1964 में नैनीताल के पास पंतनगर में यह धाम/आश्रम बनाया था, जिसमें स्‍टीव जॉब्‍स (Steve Jobs) कई दिनों तक रहे ।  15 जून को इस धाम की स्‍थापना दिवस के मौके पर देवभूमि कैंची धाम (Kainchi Dham) में मेला लगता है । 

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *