लोकसंगीत : गायक राजेन्द्र ढैला के पहले गीत ने मचाया धमाल, “पहाड़ ल्या रयूं” गीत के शब्दों से जीता लोगों का दिल…

PAHAD LE RAYYU SONGS
खबर शेयर करें

PAHAD PRABHAT HALDWANI- (JEEVAN RAJ): आपने अभी तक कई कुमाऊंनी और गढ़वाली गीत सुनें होगें, लेकिन आज तक आपको शुद्ध पहाड़ी गीत कम ही सुनने को मिले होगें। शुद्ध का मतलब यहां है आज के फूलहड़ भरे गीत जिनका कोई तुक है ना मिजाज। ऐसे दौर में पिछले कई सालों से उत्तराखंड की भाषा और लोक संस्कृति को संवार रहे लेखक व गायक राजेन्द्र ढैला का गीत इन दिनों पूरे उत्तराखंड ही नहीं बल्कि बाहरी राज्यों में रह रहे प्रवासियों की पहली पसंद बना है। यह गीत हाल ही में ओहो रंगमंच यू-ट्यूब चैनल से रिलीज हुआ है। जिसे लोग खूब पसंद कर रहे है।

सोशल मीडिया पर छायी टीम घुघुती जागर

इस टीम घुघुती जागर के गायक राजेन्द्र सिंह ढैला ने गाया है। टीम घुघुती जागर लंबे समय से उत्तराखंड की भाषा और लोक संस्कृति का प्रचार-प्रसार कर रही है। लेखक राजेन्द्र ढैला, राजेन्द्र प्रसाद और गिरीश शर्मा की जोड़ी आज पूरे उत्तराखंड में छायी है। अब राजेन्द्र ढैला का पहला गीत पहाड़ ल्या रयूं रिलीज हुआ है। इस गीत को खुद लेखक राजेन्द्र ढैला ने लिखा है जिसमें शुद्ध पहाड़ी शब्दों का शानदार मिश्रण किया गया है जो आपको शायद ही आज के कुमाऊंनी गीतों में सुनने को मिलेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः स्व. धर्मपाल कश्यप की प्रथम पुण्यतिथि पर लगा रक्तदान शिविर, युवाओं ने की रक्तदान

लोक संस्कृति और भाषा आगे बढ़ाना हमारा उद्देश्य: ढैला

राजेन्द्र ढैला एक शानदार लेखक के साथ ही एक बेहतरीन गायक भी है जो आपको उनके गीत पहाड़ ल्या रयूं में सुनने को मिल जायेगा। इस गीत को ओहो रेडियो के स्टूडियो देहरादून में शूट किया गया है जिसमें आपको आरजे काव्य भी साथ में झूमते नजर आयेंगे। गायक राजेन्द्र ढैला ने पहाड़ प्रभात से विशेष बातचीत में बताया कि उनका उद्देश्य उत्तराखंड की लोक संस्कृति और भाषा को आगे बढ़ाना है। उनकी टीम घुघुती जागर लगातार लोगों तक पहाड़ की संस्कृति और रीति-रिवाजों को सोशल मीडिया के जरिये पहुंचाने का प्रयास कर रही है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: पहाड़ में घर से महिला को घसीटकर ले गया गुलदार, इस हाल में मिली लाश
OHO RADIO GHUGHUTI JAGAR

पहाड़ी शब्दों का शानदार मिश्रण

बता दें कि इस गीत में पहाड़ की घुघुती पक्षी, काफल, पहाड़ की सुंदरता, मंदिरों का शानदार वर्णन किया गया है। साथ ही पहाड़ी लोगों की पसंद झोली- भात, जंगल में ग्वालों के गीत का जबरर्दस्त मिश्रण किया है। खजूर, भट्ट की चुडक़ानी, आलू के गुटके और भट्ट के डूबकों के स्वाद और हरैले के त्यौहार से पहाड़ के रीति-रिवाजों पर फोकस किया है। कुल मिलाकर यह गीत आपको पहाड़ की पुरानी चीजों के याद दिलाते हुए झूमने पर मजबूर कर देगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: गर्भवती महिला ने बच्चे को सड़क पर दिया जन्म, एक घंटे बाद आई एंबुलेंस

पहाड़ ल्या रयूं ने बनाई पहचान

गायक व लेखक राजेन्द्र ढैला पिछले वर्ष आरजे काव्या ने अपने यूट्यूब चैनल उत्तर का पुत्तर पर उनकी टीम घुगुती जागर का इंटरव्यू लिया था। इस दौरान राजेंद्र ढैला अपना लिखा गीत आपूण मन मा पहाड़ ल्या रयूं गाकर सुनाया था तो आरजे काव्य को यह गीत भा गया उन्होंने टीम घुघुती जागर से इस गीत को रिकॉर्ड कराने का वादा कर दिया। जिसे उन्होंने पूरा कर अपना वादा निभाया है। अगर आपने अभी तक यह गीत नहीं सुना है तो एक बार जरूर सुनें जिसे सुन आप अपने कदमों को थिरकने से रोक नहीं पायेंगे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *