Uttarakhand: संचालकों की मनमानी होगी बंद, स्वास्थ्य विभाग तय करेगा एंबुलेंस का किराया

uttarakhand ambulance rate
खबर शेयर करें

Dehradun News: उत्तराखंड में आपातकालीन सेवा यानी एंबुलेंस के किराए को लेकर मरीजों के साथ होने वाली लूट अब बंद होगी, सरकार सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस के लिए एक समान रेट तय करने जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने अधिकारियों को इस संदर्भ में निर्देश दे दिए हैं स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मजबूरी के समय कई मरीजों को एंबुलेंस महंगे दामों में मिलती है लिहाजा कई बार मरीज द्वारा एंबुलेंस के नाम पर लूट की शिकायत सामने आई है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: CLAT में उत्तराखंड के हर्षित ने बजाया डंका, ऑल इंडिया में मिली चौथी रैंक

लिहाजा एंबुलेंस का तय किराए करने और इस में एकरूपता लाने के निर्देश दिए गए हैं। कोविड-19 के दौर में भी जिला अधिकारियों ने एंबुलेंस के रेट तय करने के बावजूद भी एकरूपता नहीं दिखाई दी थी। कहीं 15 तो कहीं 20 प्रति किलोमीटर रेट तय किया गया था। जबकि कई ऐसे जिले थे। जहां एंबुलेंस का कोई रेट नहीं तय था, लिहाजा अब पहाड़ और मैदान क्षेत्र में एंबुलेंस की रेट तय करने के लिए अलग-अलग फार्मूला बनेगा। सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस का रेट एक समान होगा।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *