उत्तराखंड: (अच्छी खबर)- सात माह के बच्चे ने 12 दिन में कोरोना को दी मात, खुशी से झूम उठे डॉक्टर

doon Madical Collage
खबर शेयर करें

उत्तराखंड में कोरोना अपने चरम पर है। ऐसे में बच्चों से लेकर बुर्जुगों तक को अपनी चपेट में ल रहा है। इसके बावजूद रह दिन हजारों लोग कोरोना को मात दे रहे है। 4215 मरीज प्रदेश भर में कोरोना को मात देकर लौटे। वहीं दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय से एक ऐसी की खबर आपको कोरोनकाल में जोश भरने का काम करेंगी। यहां एक सात माह के एक बच्चे ने 12 दिन में कोरोना को हरा दिया। मासूम ने तीन दिन तक वेंटिलेटर पर रहने के बाद कोरोना से जिंदगी की जंग जीत ली है। शुक्रवार को उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: अपात्रों को राशनकार्ड निरस्त करने का आखिरी मौका, पढि़ए पूरी खबर

दरअसल देहरादून में स्थित दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में बाल रोग विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विशाल कौशिक ने बताया कि विगत 18 अप्रैल को एक परिवार अपने सात माह के बच्चे को लेकर अस्पताल की इमरजेंसी में पहुंचा था। उनका बच्चा कोरोना पॉजिटिव था ऐसे में उसे तत्काल बाल रोग विभाग के चिकित्सकों की देखरेख में भेजा गया। चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे के शरीर में कृत्रिम ऑक्सीजन लगाने के बाद भी ऑक्सीजन का स्तर 80 प्रतिशत था और उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: अपात्रों को राशनकार्ड निरस्त करने का आखिरी मौका, पढि़ए पूरी खबर

बच्चे के शरीर में नमक की कमी भी थी जिससे उसे दौरे पड़ रहे थे। एक्स-रे किया तो उसमें निमोनिया भी दिखाई दिया। बाल रोग विभाग की टीम ने उसे वेंटिलेटर पर रखा। तीन दिन बाद बच्चे की हालत में थोड़ा सुधार हुआ तो उसे वेंटिलेटर से निकालकर आइसीयू में ऑक्सीजन पर रखा गया। इसके बाद चिकित्सकों ने मां का दूध पिलाने की सहमति दी। गुरुवार बच्चे की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई। पूरा स्टाफ खुशी के मारे झूम पड़ा। बच्चे के माता-पिता की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। का दूध भी ठीक तरीके से पीने लगा था। बच्चे का परिवार मूलरूप से हल्द्वानी का रहने वाला है। उसके पिता हिमाचल प्रदेश में एक फैक्ट्री में काम करते है।

Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *