पढ़िये अजय पांडे की कलम सेः तेरी-मेरी कहानी…

Ajay Kumar Pandey haldwani
खबर शेयर करें

महसूस करता हूं तेरे एहसाह को अब में
तू अब मेरी रूह में बस गयी है।
कब खत्म होगा इंतजार मेरा,
तू अब मेरी जरूरत सी बन गई है।।
ख्वाब बुनने लगा हूं तेरे साथ अब में,
तू अब मेरी हकीकत बन गयी है
ये दिल धड़कता है तेरे इंतजार में
तू अब मेरी धड़कन सी बन गयी है।।
मुलाकात तेरे से इशारा था रब का,
तू मेरी अब हर एक सांस बन गयी है।
साथ तेरा दूंगा हर पल हर क्षण,
प्रिये तू अब मेरी जिंदगी बन गयी है।।
अजय पाण्डे, हल्द्वानी।।

Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः (बधाई)-पहाड़ के राजेन्द्र महर ने CDS परीक्षा में लहराया परचम, एयरफोर्स में मिली 1sT रैंक...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *