उत्तराखंड: अलविदा प्रहलाद दा… झूठौं माया जाला दि दिनकौं हूं छी…

खबर शेयर करें

हल्द्वानी। (जीवन राज)- आज उत्तराखंड के सुप्रसिद्ध लोकगायक प्रहलाद मेहरा का निधन हो गया। उत्तराखंड संगीत जगत को उन्होंने अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। प्रहलाद दा ने कई ऐसे गीत गाये तो जल, जंगल, जमीन और पहाड़ की पीड़ा को लेकर थे। आज सदा के लिए उनकी आवाज खामोश हो गई। आज उनकी इस खामोशी पर उन्हीं का गाया एक गीत याद आता है। पंछी उड़ी जानी घोंल उसे रूछो, झूठौ माया जाला दि दिन कौं हूं छौ…

अपने सुरों से बयां का पहाड़ का दर्द

यह वह दौर था जब मैं स्कूली दिनों में इस गाने का सुनता था, बचपन से ही प्रहलाद मेहरा के गीतों को बड़ा फैन था, लेकिन कभी उनसे मुलाकात नहीं हुई थी। स्कूल शिक्षा के बाद मीडिया जगत में आया तो फिर कई कार्यक्रमों में प्रहलाद दा से मुलाकात हो जाती थी। सरल और सौम्य स्वभाव के प्रहलाद मेहरा हमेशा मेरे नमस्कार का जवाब मुस्कुराते हुए देते थे। हल्द्वानी रहते हुए मेरी उनसे अंतिम मुलाकात इस बार उतरैणी कौतिक हीरा नगर में हुई थी। पहाड़ की पीड़ा को कई लोकगायकों ने अपने सुरों में बयां किया, लेकिन जो मिठास प्रहलाद दा के सुरों में शायद ही ऐसे गायक उत्तराखंड में आगे आयेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः इश्क में पागल पोती ने ब्‍वॉयफ्रेंड के दोस्त संग मिलकर कराई दादी की हत्या

शुद्ध पहाड़ी गीतों से बनाई खास पहचान

शुद्ध पहाड़ी शब्दों का चयन पाठी दवाता भूल गई, मेरी गपुली मेकै टोकली, ऐजा रे ऐजा रे मेरो दानपुरा, चांदी बटना दाज्यू कुर्ती कॉलर, भारत मुकुट हिमालाय, सौणे की रात बरखा, में जैसे गाने ने वर्तमान के दौर में उनकी गायकी को एक अलग की श्रेणी में रखा। उनके गीतों को सुनकर एक सकून मिलता था। अब उनकी आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। प्रहलाद मेहरा एक गहरी नींद में सो गये। वर्तमान दौर में शुद्ध पहाड़ी शब्दों में गीत हमें अब नहीं सुनाई देंगे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: विधायक सुमित हृदयेश को बनाया ज्वालामुखी, काँगड़ालोकसभा क्षेत्र का पर्यवेक्षक

आकाशवाणी अल्मोड़ा से पास की स्वर परीक्षा

वर्तमान में प्रहलाद मेहरा लालकुआं बिंदुखत्ता के संजय नगर में रहते थे। बचपन से ही पहाड़ी गीतों के शौक ने उन्हें वर्ष 1989 में अल्मोड़ा आकाशवाणी में स्वर परीक्षा पास करने में मदद की। प्रहलाद मेहरा अल्मोड़ा आकाशवाणी में ए श्रेणी के गायक थे। उनके पिता पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में प्राथमिक स्कूल में शिक्षक थे। प्रहलाद मेहरा ने कैसेटों के दौर से लेकर सीडी और यूट्यूब के दौर तक करीब 150 से अधिक गानों को अपनी आवाज दी। लोकगायक प्रहलाद मेहरा के निधन पर सीएम धामी सहित तमाम लोगों ने संवेदनाएं प्रकट की हैं और दिवंगत को श्रद्धांजलि अर्पित की है। पहाड़ प्रभात की ओर से प्रहलाद दा आपको शत्-शत् नमन्…

Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]