मैं एक पहाड़न…

GITANJALI MRIDUL
खबर शेयर करें

मैं एक पहाड़न
कल कल करते झरने
खेलें गोद में मेरी
नदियाँ उमड़ी
कि जैसे कोई बंजारन !
मैं एक पहाड़न !
धानी चुनरी में मेरी
जीवन पल्लवित है
वन वृक्ष लताद्रुम
खग और विहग है
आखेटक आक्रांतक भय को
देती अभयारण्य !
मैं एक पहाड़न !
वक्षस्थल पर मेरे
ममता बिखरी है
उन्नत ललाट पर
स्वर्णिम आभा निखरी है !
पिहू पिहू करते पपीहे की
ज्यूँ प्यासी चितवन !
मैं एक पहाड़न !
मृदु मनु मनुहार
मैं लाड लडाती
सुने हुए घर आँगन
मैं पथिक बुलाती !
रूप सुंदरी मैं
हाय ! फिर भी क्यूँ अभागन ?
मैं एक पहाड़न !
गीतांजलि मृदुल, देहरादून

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: सुबह-सुबह ट्रक ने युवक को कुचला, पल भर में मिली मौत...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *