Health Tip: सुबह आने लगती है तेज खांसी? कही इन बीमारियों के लक्षण तो नहीं…

खबर शेयर करें

सुबह उठते ही उन्हें खांसी, छींके, गले में दर्द या खराश शिकायत होने लगती है. हालांकि हम इसे हल्के में लेकर नजरअंदाज कर देते हैं, लेकिन ऐसा करना खतरनाक हो सकता है. दरअसल, ये कुछ बीमारियों का कॉमन लक्षण हैं. 

क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज-COPD-वैसे तो मौसम में बदलाव के चलते खांसी आना आम हो सकता है, लेकिन सुबह लगातार ये समस्या बनी रहना कुछ गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है. इनमें से एक है क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज. इस बीमारी में हमारे फेफड़ों के वायुमार्ग सिकुड़ जाते हैं, ऐसे में सांस लेने में परेशानी होने लगती है. ऐसे में कार्बन डाई ऑक्साइड बाहर नहीं निकल पाती और शरीर के अंदर ही रह जाती है. लंबे समय तक ऐसा होना खतरनाक हो सकता है. COPD में घरघराट और सांस लेने में दिक्कत होती है. ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः सीएम धामी ने दी प्रदेशवासियों को हरेला पर्व की बधाई

ब्रोंकाइटिस-Bronchitis- ब्रोंकाइटिस-Bronchitis एक गंभीर परेशानी है. ब्रोंकाइटिस ब्रोन्कियल नलियों में सूजन की वजह से होता है. कभी-कभी, जब आप सुबह उठते हैं तो कुछ बैक्टीरिया इस सूजन को ट्रिगर करते हैं. इसके चलते व्यक्ति को सीने में जकड़न होती है जिसकी वजह से व्यक्ति खांसता है. हालांकि, गंभीर होने पर ये सूखी खांसी बलगम वाली खांसी के रूप में बदल सकती है, ऐसे में समस्या लगने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं.

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः सीएम धामी ने दी प्रदेशवासियों को हरेला पर्व की बधाई

अस्‍थमा (Asthma)- अस्‍थमा के बारे में तो आपने सुना ही होगा. सुबह खांसी आने की वजह अस्‍थमा (Asthma) भी हो सकता है. अस्‍थमा में फेफड़ों में सूजन आ जाती है, सूजन के कारण व्‍यक्‍त‍ि को सांस लेने में परेशानी होती है. इससे वायुमार्ग सिकुड़ जाता है और व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई होती है. अस्‍थमा होने पर सूखी या बलगम वाली खांसी, सांस लेने में परेशानी, चेस्‍ट में भारीपन और थकान जैसे लक्षण महसूस होता है.

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः सीएम धामी ने दी प्रदेशवासियों को हरेला पर्व की बधाई

हाइपोथायरायडिज्म (Hyperthyroidism)- हाइपोथायरायडिज्म (Hyperthyroidism) के कारण भी हो सकती है. हाइपोथायरायडिज्म तब होता है जब थायराइड बहुत कम मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन करता है. ऐसे में इंसान की आवाज फटी फटी होने लगती है. कुछ लोगों को बोलते वक्‍त गले में कुछ फंसने जैसा महसूस होता है, जिससे लगातार खांसी हो सकती है.

Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

पहाड़ प्रभात डैस्क

संपादक - जीवन राज ईमेल - [email protected]